आर्यभट की जीवनी | Aryabhatta Biography in Hindi (9 रोचक तथ्य)

आर्यभट की जीवनी | Aryabhatta Biography in Hindi :- आर्यभट्ट प्राचीन भारत के एक महान गणितज्ञ, ज्योतिषी और खगोलशास्त्री थे। उस समय कई भारतीय विद्वानों में आर्यभट्ट का नाम भी शामिल है, जैसे: वराहमिहिर, ब्रह्मगुप्त, भास्कराचार्य, कमलाकर, आदि।

आर्यभट की जीवनी  Aryabhatta biography in hindi

आर्यभट्ट (476-550) प्राचीन भारत के एक महान ज्योतिषी और गणितज्ञ थे। उन्होंने आर्यभटीय पुस्तक की रचना की, जिसमें ज्योतिष के कई सिद्धांत प्रस्तुत किए गए हैं। आर्यभट्ट का निवास बिहार में वर्तमान पटना का प्राचीन नाम कुसुमपुर था लेकिन आर्यभट्ट का कुसुमपुर दक्षिण में था, यह अब लगभग सिद्ध हो चुका है।

आर्यभट का संक्षिप्त  परिचय (Aryabhatta jivani)

जन्म         दिसंबर, ई.स.476
मृत्यु         दिसंबर, ई.स. 550 [74  वर्ष ]
जन्म स्थान         अश्मक,  महाराष्ट्र,  भारत
कार्यक्षेत्र         गणितज्ञ,  ज्योतिषविद   एवं  खगोलशास्त्री
कार्यस्थल         नालंदा  विश्वविद्यालय
रचनायें         आर्यभटीय,  आर्यभट सिद्धांत
योगदान         पाई  एवं  शून्य  की  खोज
आर्यभट की जीवनी | Aryabhatta Biography in Hindi

आर्यभट का जन्म  (Aryabhatta birth):

आर्यभट्ट के जन्म के संबंध में कोई ठोस प्रमाण उपलब्ध नहीं है, लेकिन कहा जाता है कि भगवान बुद्ध के समय में अश्माका देश के कुछ लोग मध्य भारत में नर्मदा नदी और गोदावरी नदी के बीच बसे थे। ऐसा माना जाता है कि आर्यभट्ट का जन्म भी ईस्वी सन् में हुआ था। यह इस जगह पर 476 में हुआ था। एक अन्य मान्यता के अनुसार आर्यभट्ट का जन्म बिहार के पटना में हुआ था, जिसका प्राचीन नाम पाटलिपुत्र था, जिसके निकट ही उनका जन्म कुसुमपुर में माना जाता है।

आर्यभट की शिक्षा  (Aryabhatta education): 

इस संबंध में इतिहासकारों के पास पर्याप्त जानकारी उपलब्ध नहीं है, लेकिन यह स्पष्ट रूप से ज्ञात है कि आर्यभट्ट अपने जीवनकाल में किसी समय उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए कुसुमपुर गए होंगे, जो उस समय उच्च शिक्षा के लिए एक प्रसिद्ध विश्वविद्यालय था।

आर्यभट के कार्य  (Aryabhatta work and contribution):

आर्यभट्ट ने गणित और खगोल विज्ञान पर कई रचनाओं की रचना की, इनमें से कुछ कार्य विलुप्त हो चुके हैं। लेकिन आज भी कई रचनाओं का प्रयोग किया जाता है, जैसे- आर्यभटीय।

आर्यभटीय (Aryabhatiya)-:

यह आर्यभट्ट का एक गणितीय कार्य है, जिसमें अंकगणित, बीजगणित, त्रिकोणमिति का विस्तृत विवरण है। इसके अलावा इसमें निरंतर भिन्न [निरंतर अंश], द्विघात समीकरण [द्विघात समीकरण], साइन की तालिका [साइन की तालिका], शक्ति श्रृंखला का योग [शक्ति श्रृंखला का योग], आदि शामिल हैं।

आर्यभट्ट की रचनाओं का वर्णन मुख्यतः इसी रचना [आर्यभटीय] से मिलता है। संभवतः यह नाम स्वयं आर्यभट्ट ने नहीं, बल्कि बाद के आलोचकों ने दिया था। भास्कर प्रथम, जो आर्यभट के शिष्य थे, ने इस रचना को अश्मक-तंत्र [अश्माका से ग्रंथ] कहा। सामान्य तौर पर इसे आर्य-शत-अष्ट [आर्यभट के 108] भी कहा जाता है क्योंकि इसमें 108 श्लोक/श्लोक हैं।

यह एक बहुत ही सारगर्भित – निहित सूत्र – साहित्य है, जिसकी प्रत्येक पंक्ति प्राचीन जटिल प्रथाओं का वर्णन करती है। 108 श्लोकों और 13 परिचयात्मक श्लोकों से बनी यह रचना 4 श्लोकों या अध्यायों में विभक्त है। वे अध्याय इस प्रकार हैं:

  • गीतिकापद [13 श्लोक],
  • मठपाद [33 श्लोक],
  • कलाक्रियापद [25 छंद],
  • गोलापाद [50 छंद]

आर्य – सिद्धांत (Arya siddhanta)  

आर्यभट्ट की यह रचना पूर्ण रूप से उपलब्ध नहीं है। लेकिन इसके अवशेष कई खगोलीय उपकरणों के उपयोग का वर्णन करते हैं, जैसे: – शंख – यंत्र [सूक्ति], छाया – यंत्र [छाया यंत्र], बेलनाकार यस्ति – यंत्र [बेलनाकार छड़ी], छत्र – यंत्र [अम्ब्रेला शेप्ड डिवाइस], पानी – घड़ी [जल घड़ी], कोण – मापने वाला उपकरण [कोण मापने वाला उपकरण], धनूर – यंत्र / चक्र यंत्र [अर्ध-वृत्ताकार / वृत्ताकार उपकरण], आदि।

इस रचना में सूर्य तत्त्व का प्रयोग किया गया है। सूर्य सिद्धांत में सूर्योदय को नजरअंदाज किया जाता है और इसमें आधी रात की गणना [मध्यरात्रि गणना] का उपयोग किया जाता है।

आर्यभट्ट का योगदान

आर्यभट्ट ने गणित और खगोल विज्ञान के क्षेत्र में कई योगदान दिए, जिनमें से कुछ इस प्रकार हैं:-

गणित में आर्यभट का योगदान –

पाई का इतिहास हिंदी में -:

आर्यभट ने पाई के मूल्य की खोज की, इसका वर्णन आर्यभटीय के गणितपद 10 में मिलता है। वे लिखते हैं –
सौ में चार जोड़ें, फिर आठ से गुणा करें और फिर 62,000 जोड़ें और भागफल को 20,000 से खोजें, इससे प्राप्त उत्तर pi का मान होगा अर्थात।

[(4 + 100) * 8 + 62,000]/20,000 = 62,832/20,000 = 3.1416

गणित में शून्य का इतिहास -:

आर्यभट्ट ने शून्य की खोज की, जो गणित की सबसे अच्छी खोज है, जिसके अभाव में गणना असंभव हो जाती क्योंकि शून्य को सामने रखते ही किसी संख्या का मान 10 गुना बढ़ जाता है। वह स्थानीय मानक प्रणाली के बारे में जानकारी देने वाले पहले व्यक्ति थे।

आर्यभट्ट के त्रिकोणमिति का योगदान दिया –

आर्यभटीय के मठपद 6 में त्रिभुज के क्षेत्रफल की बात की गई है।
आर्यभट्ट ने साइन की अवधारणा पर भी चर्चा की है, जिसे उन्होंने ‘अर्ध-ज्या’ [हाफ-कॉर्ड] नाम दिया है। सरलता के लिए इसे ‘ज्या’ कहते हैं।

आर्यभट्ट बीजगणित -:

आर्यभट ने भी आर्यभटीय में वर्गों और घनों की एक श्रृंखला के योग के उचित परिणाम का वर्णन किया है –
12 + 22 + ………. + n2 =[ n ( n+1) ( 2n + 1) ] / 6,
13 + 23+ …………….. + एन3 = (1+2 + ……….. + एन) 2

एक खगोलशास्त्री के रूप में आर्यभट्ट

आर्यभट के खगोल विज्ञान के सिद्धांतों को सामूहिक रूप से औदायका प्रणाली कहा जाता है। उनके कुछ बाद के कार्यों में पृथ्वी की कक्षा के बारे में बात की गई है और उनका यह भी मानना ​​था कि पृथ्वी की कक्षा गोलाकार नहीं बल्कि अण्डाकार है।

उदाहरण के लिए, यदि कोई व्यक्ति नाव या ट्रेन में बैठा है और जब नाव या ट्रेन आगे बढ़ती है, तो पेड़, घर आदि चीजें पीछे की ओर बढ़ती हुई प्रतीत होती हैं, जबकि ऐसा नहीं होता है। इसी प्रकार स्थिर नक्षत्र भी गतिमान पृथ्वी से विपरीत दिशा में गति करते दिखाई देते हैं। हम ऐसा इसलिए महसूस करते हैं क्योंकि पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमती है और यह गति यह भ्रम पैदा करती है।

सौरमंडल की  गतिशीलता [ Motions of the Solar System ]

आर्यभट्ट ने इस तथ्य को स्थापित किया कि पृथ्वी अपनी धुरी पर लगातार घूमती रहती है और यही कारण है कि आकाश में तारों की स्थिति बदलती रहती है। यह तथ्य बिल्कुल विपरीत है कि आकाश घूमता है। इसका वर्णन उन्होंने आर्यभटीय में भी किया है।

ग्रहण

हिंदू मान्यता के अनुसार, राहु नाम के ग्रह द्वारा सूर्य और चंद्रमा को निगलने के कारण क्रमशः सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण होता है। इस धारणा को आर्यभट ने गलत साबित कर दिया और उन्होंने इस सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण का वैज्ञानिक तरीके से वर्णन किया है। उन्होंने बताया कि चंद्रमा और अन्य ग्रह सूर्य के प्रकाश के परावर्तन के कारण प्रकाशित होते हैं, वास्तव में उनका अपना कोई प्रकाश नहीं होता है। आर्यभट्ट ने स्पष्ट किया कि ग्रहण नामक यह घटना पृथ्वी पर पड़ने वाली छाया या पृथ्वी की छाया है।

सूर्य ग्रहण सूर्य ग्रहण

पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमते हुए सूर्य का चक्कर लगाती है और चंद्रमा सूर्य के साथ-साथ पृथ्वी का भी चक्कर लगाता है और इस दौरान जब चंद्रमा पृथ्वी और सूर्य के बीच आता है तो चंद्रमा बीच में आ जाता है। सूर्य का वह भाग इससे छिपा होता है और वह हमें काला या हल्का दिखाई देता है और इस घटना को सूर्य ग्रहण कहते हैं।

चंद्रग्रहण 

चूँकि चंद्रमा अपनी धुरी पर पृथ्वी के चारों ओर चक्कर लगाता है और साथ ही सूर्य का भी चक्कर लगाता है और इस दौरान पृथ्वी सूर्य और चंद्रमा के बीच आ जाती है, तब पृथ्वी की छाया चंद्रमा पर पड़ती है और वह सूर्य प्रकाश प्राप्त नहीं कर पाता है और यह घटना इसे चंद्र ग्रहण कहते हैं। पृथ्वी की छाया जितनी बड़ी होती है, उतना ही बड़ा ग्रहण भी कहा जाता है।

नाक्षत्र काल

आर्यभट ने पृथ्वी की एक परिक्रमा के लिए सही समय पाया। यह अपनी धुरी पर घूमते हुए 24 घंटे में नहीं बल्कि 23 घंटे 56 मिनट और 1 सेकेंड में सूर्य की परिक्रमा पूरी करता है। इस प्रकार हमारे पास 1 वर्ष में 365 दिन, 6 घंटे, 12 मिनट और 30 सेकंड होते हैं।

खगोलविद योगदान

आर्यभट्ट ने ज्योतिष विज्ञान की खोज लगभग डेढ़ हजार वर्ष पूर्व ही की थी, जब इतने उन्नत उपकरण और उपकरण भी उपलब्ध नहीं थे। ,

अन्य रोचक तथ्य (आर्यभट्ट रोचक तथ्य)

  • आर्यभट द्वारा रचित आर्यभटीय अभी भी हिंदू कैलेंडर के लिए उपयोग किया जाता है।
  • गणित और खगोल विज्ञान में उनके अतुलनीय योगदान को देखते हुए भारत के पहले उपग्रह का नाम उनके नाम पर ‘आर्यभट्ट’ रखा गया।
  • आर्यभट्ट ने दशमलव प्रणाली का निर्माण किया।
  • आर्यभट्ट ने सूर्य सिद्धांत की रचना भी की थी।
  • 23 साल की उम्र में आर्यभट ने ‘आर्यभटीय ग्रंथ’ की रचना की, जिसकी उपयोगिता और सफलता को देखते हुए तत्कालीन राजा बुद्धगुप्त ने उन्हें नालंदा विश्वविद्यालय का प्रमुख बनाया।
  • आर्यभट्ट ने बिहार के तेरेगाना क्षेत्र में सूर्य मंदिर में एक अवलोकन विद्यालय की स्थापना की।
  • विद्वानों के अनुसार अरबी कृतियाँ ‘अल-नत्फ’ और ‘अल-नन्फ’ आर्यभट्ट की कृतियों के अनुवाद हैं।
  • आर्यभट्ट ने अंकों का प्रतिनिधित्व करने के लिए कभी भी ब्राह्मी लिपि का उपयोग नहीं किया, जिसका वैदिक काल से सांस्कृतिक रीति के अनुसार पालन किया गया था। वह हमेशा अक्षर का ही प्रयोग करता था।
  • इस प्रकार आर्यभट्ट हमारे देश के महान गणितज्ञ, ज्योतिषी और खगोलशास्त्री थे, जिनका इन क्षेत्रों में अतुलनीय योगदान है।

Leave a Comment