Milk Dairy Business Plan in Hindi पूरी जानकारी 2022

Milk Dairy Business Plan in Hindi:- आज के इस लेख में हम दूध के व्यापार और उससे जुड़े सभी सवालों के बारे में बात करने जा रहे हैं जैसे कि इस व्यवसाय को कैसे शुरू करें, व्यापार शुरू करते समय हमें क्या करना चाहिए। ध्यान में रखने वाली बातें हैं, कौन सी सावधानियां और सरकारी प्रक्रियाओं की आवश्यकता है और इस व्यवसाय में शामिल जोखिम और लागत क्या हैं।

अगर दुग्ध व्यवसाय की बात करें तो यह व्यवसाय पशुधन पर निर्भर करता है। जैसा कि हम जानते हैं कि भारत जनसंख्या की दृष्टि से बहुत बड़ी जनसंख्या वाला देश है। जिनकी अधिकतम जनसंख्या गांव में निवास करती है और अपनी आजीविका कमाने के लिए विभिन्न गतिविधियों में लगी हुई है।

ग्रामीण परिवेश में देखा जाए तो लोग अपने साथ पालतू जानवर जैसे गाय भैंस बकरी आदि रखते हैं और अपने दैनिक जीवन में उनसे दूध प्राप्त करते हैं। वहीं कुछ परिवार इन पशुओं को बड़ी मात्रा में अपने पास रखते हैं और इनसे प्राप्त दूध को बेचकर अपने परिवार का खर्च उठाते हैं। तो आइए जानते हैं Milk Dairy Business Plan in Hindi (दूध का बिजनेस कैसे करें) के बारे में विस्तार से जानकारी।

अनुक्रम

Milk Dairy Business Plan in Hindi 2022

दूध उत्पादन ग्रामीण क्षेत्रों में परिवारों के लिए आजीविका का एक महत्वपूर्ण स्रोत है। दुनिया भर में दूध की मांग लगातार बढ़ रही है। ताकि यह व्यवसाय एक लाभदायक गतिविधि के रूप में सामने आए और इसे एक लाभदायक व्यवसाय में गिना जाने लगा। दुग्ध डेयरी के कारोबार में कई कंपनियां निकली हैं, जो इन दूध व्यापारियों से दूध इकट्ठा कर पैक कर बेच देती हैं और बदले में अच्छी कमाई करती हैं.

यह व्यवसाय बहुत ही लाभदायक व्यवसाय है। हालांकि, अन्य व्यवसायों की तरह, यह जोखिम मुक्त है। क्योंकि दूध की मांग लगातार बढ़ रही है। लेकिन अच्छी तकनीक और संसाधनों की कमी के कारण व्यवसायी को कभी-कभी नुकसान उठाना पड़ता है। दूध एक खाद्य पदार्थ है और हमारे दूध उत्पादकों को पीछे छोड़ते हुए इसमें खराब होने की उच्च संभावना है।

लेकिन इस उद्योग के लिए लगातार विभिन्न प्रकार की तकनीक और संसाधनों के बारे में जागरूकता आ रही है। जिससे दुग्ध उत्पादकों का मुनाफा काफी बढ़ गया है।

बाजार की उपलब्धता (Milk Dairy Business Plan in Hindi)

दुग्ध उत्पादन व्यवसाय एक ऐसा व्यवसाय है, जिसकी बाजार में उपलब्धता बहुत अधिक है। इसलिए निर्माताओं को इसके बारे में ज्यादा चिंता करने की जरूरत नहीं है। क्योंकि भारत में हर परिवार के अंदर दूध और दूध से जुड़े उत्पादों का इस्तेमाल किया जाता है। भारत में शायद ही कोई घर होगा जहां दूध और उसके उत्पादों का इस्तेमाल नहीं किया जाता हो।

इस वजह से दुग्ध उत्पादन के मामले में भारत का विश्व में पहला स्थान है और गाय के दूध उत्पादन के मामले में भारत दूसरे स्थान पर है। इसके अलावा भारत दूध का उपभोक्ता होने के साथ-साथ निर्यातक भी है और 2015-16 से भारत की दूध उत्पादन क्षमता लगातार बढ़ रही है, जिससे भारत एक बड़े बाजार के रूप में उभरा है।

उपकरण (Milk Dairy Business Plan in Hindi)

इस व्यवसाय के लिए किसी विशेष उपकरण की आवश्यकता नहीं है। आमतौर पर आपको इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए जगह की आवश्यकता होती है। जानवरों को रखने के लिए टिन-सेड की जगह जिसके तहत जानवरों को रखा जा सकता है और मौसम के प्रभाव से बचाया जा सकता है।

पशुओं के चारे के भंडारण के लिए एक कमरे की जरूरत होगी, जहां पुआल रखा जा सके और पानी की टंकी की भी जरूरत होगी। दूध निकालने और उन्हें संरक्षित करने के लिए कुछ बर्तनों की आवश्यकता होगी।

वर्तमान में बाजार में दूध निकालने के लिए विभिन्न मशीनें भी उपलब्ध हैं। क्योंकि अगर आप एक अच्छी नस्ल की गाय रखते हैं, तो यह कई लीटर दूध देती है और अगर आपने बड़े पैमाने पर व्यवसाय शुरू किया है, तो आपके पास बहुत सारी गाय-भैंस होंगी, एक या दो व्यक्तियों द्वारा इतना दूध नहीं। हटाया जा सकता है। जिसके लिए आपको मशीन आदि की भी जरूरत पड़ेगी।

दुग्ध व्यवसाय में ध्यान रखने योग्य बातें (Milk Dairy Business Plan in Hindi)

हालांकि दूध का बिजनेस काफी सफल बिजनेस है। लेकिन हर बिजनेस की तरह इस बिजनेस में भी बिजनेसमैन को कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए। कोई भी व्यवसाय शुरू करते समय व्यवसायी को एक सफल योजना बनानी चाहिए, जिससे वह अपने व्यवसाय की सफलता सुनिश्चित कर सके।

जैसा कि हम जानते हैं कि दूध का उत्पादन पशुधन पर निर्भर करता है इसलिए व्यापारी को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वह अपने व्यवसाय में किस जानवर के दूध का उपयोग करना चाहता है। गाय, भैंस या किसी अन्य जानवर की कई नस्लें भी बिक्री के लिए हैं, जिनकी दूध उत्पादन क्षमता अलग है।

व्यापारी को दुग्ध उत्पादन के लिए अच्छी नस्ल के जानवरों का चयन करना चाहिए, जिनकी दूध उत्पादन क्षमता बहुत अधिक है और उन जानवरों को किस तरह का भोजन दिया जाना चाहिए। व्यापारी को भी इस संबंध में जानकारी लेनी चाहिए।

दुग्ध उत्पादन व्यवसाय शुरू करते समय व्यापारी को यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि वह इस व्यवसाय को किस स्तर पर खोलना चाहता है? यानी निवेश की मात्रा क्या होगी? क्या वह व्यवसाय को निम्न स्तर से या मध्यम स्तर से या बड़े स्तर से शुरू करना चाहता है, वह इस व्यवसाय को शुरू करेगा।

आपका जानवर किस नस्ल का होगा, यह पहले से तय कर लेना चाहिए कि आप कितने जानवरों के साथ यह व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं। इस व्यवसाय के संबंध में आपको विशेषज्ञों से सलाह लेनी चाहिए, जो पशुपालन के बारे में अधिक है जैसे कि जानवरों के लिए कौन सा आहार अच्छा रहेगा। यदि पशु किसी रोग से ग्रसित है तो उसका उपचार कैसे करें या किसी रोग से कैसे बचा जा सकता है।

हमें केवल दूध देने वाले पशुओं से ही दूध नहीं मिलता है। इसके अलावा इनसे हमें विभिन्न प्रकार के पदार्थ भी प्राप्त होते हैं। जैसे गाय का गोबर दूध से प्राप्त होता है। आप दूध का उपयोग अपने व्यापार के लिए कर सकते हैं और आप गाय के गोबर का उपयोग करके अलग से बेच सकते हैं या आप इसे गाय के गोबर गैस के रूप में भी उपयोग कर सकते हैं। वर्तमान में गोबर का उपयोग खाद के रूप में भी किया जाता है, जिससे कृषि उत्पादन अच्छा होता है।

आपको जानवरों आदि के गर्भाधान के बारे में भी जानना होगा। क्योंकि अलग-अलग जानवरों की गर्भाधान प्रकृति अलग-अलग होती है। बाजार में जो भी नई तकनीक विकसित होती है, जानवरों से दूध निकालने के संबंध में आपको आधुनिक तकनीक का ज्ञान होना चाहिए। आपको इसे अपने व्यवसाय में उपयोग करना चाहिए। क्योंकि वे समय बचाते हैं और उत्पादन बढ़ाते हैं।

दुग्ध व्यवसाय में कर्मचारियों का चयन (Milk Dairy Business Plan in Hindi)

जब भी कोई व्यक्ति कोई व्यवसाय शुरू करता है, तो उसे कुछ व्यक्तियों की आवश्यकता होती है, जो उसके व्यवसाय में उसकी सहायता करते हैं। किसी भी व्यवसाय की प्रगति उन लोगों पर निर्भर करती है। यदि कोई व्यक्ति लगन और अच्छी तरह से काम करता है, तो व्यापार में निश्चित रूप से प्रगति होगी। दुग्ध व्यवसाय एक ऐसा व्यवसाय है जिसके लिए किसी विशेष प्रशिक्षण या तकनीकी शिक्षा की आवश्यकता नहीं होती है।

लेकिन आपको अपने व्यवसाय के लिए ऐसे लोगों को चुनना होगा जो गाय से दूध निकालना जानते हों और उनके द्वारा कोई भी मशीन संचालित की जा सकती हो और जिन्हें आधुनिक समय और बाजार का ज्ञान हो।

दुग्ध व्यवसाय में जोखिम (Milk Dairy Business Plan in Hindi)

दुग्ध उत्पादन व्यवसाय में जोखिम की मात्रा बहुत कम होती है। क्योंकि यह एक ऐसा बिजनेस है जिसका ग्राहक पूरा देश है। सभी घरों में दूध और दुग्ध उत्पादों का लगातार और दैनिक उपयोग किया जाता है। इसलिए इन उत्पादों की मांग बहुत अधिक है। लेकिन अगर रिस्क की बात करें तो दूध एक ऐसा पदार्थ है, जो बहुत जल्दी खराब हो जाता है।

इसलिए इस व्यवसाय को शुरू करते समय व्यवसायी को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वह दूध को अच्छी तरह से संरक्षित और बनाए रखता है ताकि दूध खराब न हो।

दुग्ध व्यवसाय में स्थान का चयन (Milk Dairy Business Plan in Hindi)

दुग्ध उत्पादन व्यवसाय के लिए व्यापारी को एक स्वच्छ, स्वच्छ और बड़े स्थान की आवश्यकता होगी, जहां पशुओं को रखा जा सके और दूध दुहने के बाद जिन को रखा जा सके। इसके लिए उन्हें खुली जगह की जरूरत होगी और उनके खाने-पीने की भी व्यवस्था करनी होगी। व्यवसाय इन्हें अपने निवेश के आधार पर चुन सकते हैं।

यदि निवेश की राशि या लागत कम है तो इसे अपने घर से भी शुरू कर सकते हैं और पशुओं की मात्रा कम रख सकते हैं। लेकिन अगर व्यवसायी इस व्यवसाय को बड़े निवेश के साथ शुरू करना चाहता है तो वह एक जगह किराए पर ले सकता है या अपनी खुद की जगह तैयार कर सकता है। जहां पशुओं को रखा जा सकता है और दूध उत्पादन किया जा सकता है।

दुग्ध उत्पादन व्यवसाय के लिए पशुओं का चयन करें

भारत जैसे देश में आमतौर पर दूध उत्पादन के लिए केवल दो पशुओं का ही उपयोग किया जाता है। भारत में इन दोनों जानवरों की कई किस्मों में गाय और भैंस पाई जाती है, जो दूध उत्पादन में बहुत अच्छी होती है।

ये नस्लें एक बार में कम से कम 10 लीटर से ज्यादा दूध देने की क्षमता रखती हैं। यदि इन नस्लों को सही तरीके से रखा जाए, इनके आहार का उचित प्रबंध किया जाए, तो ये बहुत अधिक दूध का उत्पादन कर सकती हैं।

गाय की प्रमुख नस्लें (Milk Dairy Business Plan in Hindi)

यदि हम गाय की प्रमुख नस्लों की बात करें तो इनका प्रयोग अक्सर दुग्ध उत्पादन में किया जाता है, तो ये प्रमुख नस्लें जैसे साहीवाल, गिर, जर्सी, ब्राउनफेस, रेड सिंधी आदि हैं, जिनका उपयोग भारत में किया जाता है और इनकी दुग्ध उत्पादन क्षमता ये नस्लें बहुत अधिक हैं।

भैंसों की प्रमुख नस्लें (Milk Dairy Business Plan in Hindi)

अगर हम भैंसों की प्रमुख नस्लों की बात करें, तो प्रमुख नस्लें मुर्राह, भदावरी, जाफराबादी, मेहसाणा, नागपुरी, सुरती आदि हैं। इनमें से कुछ नस्लें बहुत अधिक दूध पैदा करने में सक्षम हैं।

दुग्ध उत्पादन व्यवसाय के प्रमुख स्तर (Milk Dairy Business Plan in Hindi)

  • लघु दुग्ध उत्पादन व्यवसाय
  • मध्यम दुग्ध उत्पादन व्यवसाय
  • वाणिज्यिक दूध उत्पादन व्यवसाय

लघु दुग्ध उत्पादन व्यवसाय (Milk Dairy Business Plan in Hindi)

इस व्यवसाय के तहत व्यापारी को बहुत अधिक लागत और निवेश की आवश्यकता नहीं होती है। यह व्यवसाय कुछ ही दुग्ध उत्पादक पशुओं के साथ शुरू किया जा सकता है। इस स्तर के व्यवसाय की लागत बहुत कम है। इसके लिए आप किसी भी जानवर की अच्छी नस्ल के साथ इसकी शुरुआत कर सकते हैं।

अगर निवेश की बात करें तो व्यापारी इसे अपनी जमा पूंजी से शुरू कर सकता है और सरकारी योजनाओं का लाभ भी उठा सकता है। वर्तमान में भारत सरकार द्वारा विभिन्न सहायता योजनाओं के माध्यम से सहायता प्रदान की जा रही है, जिसमें ब्याज दर बहुत कम है।

मध्यम दुग्ध उत्पादन व्यवसाय (Milk Dairy Business Plan in Hindi)

मध्यम दुग्ध उत्पादन व्यवसाय का स्तर छोटे दुग्ध उत्पादन व्यवसाय से थोड़ा बड़ा है। इसमें गायों की संख्या पांच या 5 से अधिक रखी जा सकती है। अगर प्रबंधन की बात करें तो इसमें सभी तरह की व्यवस्था की जा सकती है, जो छोटे दूध व्यवसाय के लिए हैं। लेकिन इसमें जगह की जरूरत थोड़ी ज्यादा है।

वाणिज्यिक दूध उत्पादन व्यवसाय (Milk Dairy Business Plan in Hindi)

इसकी शुरुआत बड़े पैमाने पर की जा रही है। इसमें गायों की मात्रा बहुत अधिक होती है और इसे शुरू करते समय व्यापारी को पशुपालन से जुड़ी सारी जानकारी होनी चाहिए। बेशक, इसके लिए व्यापक अनुभव की आवश्यकता है। अगर स्पेस की बात करें तो इसके लिए ट्रेडर को काफी जगह चाहिए होती है।

इसमें निवेश भी बहुत अधिक है। क्योंकि इसमें लागत 15 से 20 लाख तक आ सकती है, जो आप बैंक से लोन लेकर भी कर सकते हैं। बाकी आप अपनी जमा पूंजी का भी उपयोग कर सकते हैं। इसमें खर्च के साथ-साथ आमदनी भी सबसे ज्यादा होती है।

दुग्ध व्यवसाय के लिए पंजीकरण एवं लाइसेंस (Milk Dairy Business Plan in Hindi)

वर्तमान में आपको न केवल दूध का व्यवसाय बल्कि अन्य सभी व्यवसाय शुरू करते ही जीएसटी पंजीकरण लेना होगा और यदि आपका व्यवसाय खाद्य पदार्थ से संबंधित है तो आपको एफएसएसएआई का लाइसेंस भी देना होगा।

अगर आप दूध का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले जीएसटी रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। जीएसटी रजिस्टर कराने के बाद अगर आपका टर्नओवर 20 लाख रुपये सालाना से ज्यादा है तो आपको एफएसएसएआई से लाइसेंस लेना होगा।

दुग्ध उत्पादन व्यवसाय के लाभ (Milk Dairy Business Plan in Hindi)

दुग्ध उत्पादन व्यवसाय लाभ की दृष्टि से बहुत अच्छा व्यवसाय है। इस व्यवसाय का मुख्य लाभ यह है कि इसे कोई भी व्यक्ति शुरू कर सकता है। क्योंकि इसके लिए किसी विशेष ज्ञान या अनुभव की आवश्यकता नहीं होती है और व्यक्ति इस व्यवसाय को अपनी दैनिक गतिविधियों के साथ-साथ संचालित कर सकता है।

अगर हम इसमें लाभ की बात करें तो इस व्यवसाय के माध्यम से व्यक्ति कई तरह से लाभ कमा सकता है जैसे इस व्यवसाय में दूध बेचकर पहली कमाई की जाती है, जो व्यापारी की मुख्य आय है।

व्यापारी इसमें पशुओं के गोबर से भी धन कमा सकता है। जैसा कि वर्तमान समय में जैविक खाद के प्रचलन के कारण लोग इसकी मांग कर रहे हैं और गाय के गोबर से भी गोबर बनाया जाता है, जिसका उपयोग ईंधन के रूप में किया जाता है। गोबर से गोबर गैस भी बनाई जाती है, इसलिए व्यापारी इन चीजों को दूध के साथ बेचकर कमा सकता है।

व्यापार को कृषि की सहायक गतिविधि के रूप में जाना जाता है। क्योंकि ग्रामीण परिवेश में प्रत्येक किसान के पास गाय-भैंस है तो वह कृषि के साथ-साथ दुग्ध उत्पादन के व्यवसाय में भी लगा कर कमा सकता है। यदि हम इस व्यवसाय के लिए ज्ञान और प्रशिक्षण की बात करें, तो सामान्य व्यक्ति भी इस व्यवसाय को संचालित कर सकता है, उन्हें अधिक शिक्षित या प्रशिक्षित होने की आवश्यकता नहीं है।

दूध की मार्केटिंग कैसे करें (Milk Dairy Business Plan in Hindi)

हर प्रकार के व्यवसाय के सफल होने के लिए मार्केटिंग बहुत जरूरी है। मार्केटिंग के माध्यम से आप अपने उत्पाद को उच्च स्तर पर बेच सकते हैं और अधिकतम लाभ कमा सकते हैं। मार्केटिंग के माध्यम से व्यवसाय को आसानी से सफल बनाया जा सकता है।

मार्केटिंग ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से की जाती है। ऑनलाइन मार्केटिंग के तौर पर आपने टीवी और मोबाइल फोन में विज्ञापन जरूर देखे होंगे। उसी तरह आप अपने उत्पाद को विज्ञापन के रूप में भी बेच सकते हैं।

इसके अलावा ऑफलाइन विज्ञापन के जरिए भी मार्केटिंग की जाती है। वहीं, कई कंपनियां मार्केटिंग एजेंटों को ऑफलाइन मार्केटिंग के रूप में चुनती हैं और उन एजेंटों के माध्यम से उनके उत्पादों का प्रचार किया जाता है। यदि आपका दूध का व्यवसाय है, जिसे आप मार्केटिंग के माध्यम से बढ़ावा देना चाहते हैं, तो आपको बेहतरीन पैकेजिंग के साथ विज्ञापन करवाना होगा, ताकि आपका उत्पाद सफल हो सके।

दुग्ध व्यवसाय शुरू करने के लिए कितने निवेश की आवश्यकता है?

इस तरह दूध का कारोबार कम निवेश में शुरू किया जा सकता है, लेकिन अगर कोई व्यक्ति इस तरह का कारोबार शुरू करना चाहता है तो उस व्यक्ति को 15 से 20 लाख रुपये का निवेश करना होगा।

दुग्ध व्यवसाय शुरू करने के लिए पशु की सर्वोत्तम नस्ल का चयन कहाँ करें?

बात यह है कि सबसे अच्छी नस्ल के जानवर कहां से खरीदें, इसके लिए आप ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीके अपना सकते हैं। ऑनलाइन माध्यम से जानवरों को खरीदने और जानवरों की नस्ल का परीक्षण करने में भी आपको काफी मदद मिलेगी।

क्या दूध व्यवसाय भविष्य के लिए उभरता हुआ व्यवसाय है?

जी हां, दूध का कारोबार भविष्य में उभरता हुआ कारोबार बनेगा। क्योंकि भविष्य में लोगों की पशुपालन में रुचि नहीं होगी और ऐसे में पूरे देश में दूध की खपत बढ़ेगी।

क्या मुझे दूध का व्यवसाय शुरू करने के लिए लाइसेंस की आवश्यकता है?

जी हां, दूध का बिजनेस शुरू करने के लिए आपको जीएसटी रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। इसके साथ ही आपको FSSAI का लाइसेंस भी लेना होगा। लेकिन अगर आपका सालाना टर्नओवर ₹20 लाख से कम है तो आपको FSSAI लाइसेंस लेने की जरूरत नहीं है।

भैंस की प्रमुख नस्लें कौन सी हैं?

यदि आप दुग्ध व्यवसाय के लिए भैंस खरीदना चाहते हैं, तो आपको सर्वोत्तम नस्लों का चयन करना होगा। भैंस की सबसे अच्छी नस्लें मुर्रा, भदावरी, जाफराबादी, मेहसाणा, नागपुरी, सुरती आदि हैं।

गाय की प्रमुख नस्लें कौन सी हैं?

दूध का व्यवसाय शुरू करने के लिए आपको एक गाय की भी आवश्यकता होती है और आप ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यमों से गाय की सर्वोत्तम नस्ल का चयन कर सकते हैं। मैं आपको बताना चाहूंगा कि गाय की प्रमुख नस्लें साहीवाल, गिर, जर्सी, ब्राउनफेस, रेड सिंधी आदि हैं।

आज आपने क्या सीखा

दूध का व्यवसाय एक ऐसा व्यवसाय है, जो भविष्य के लिए काफी मांग वाला होने वाला है। मतलब यह कहा जा सकता है कि भविष्य में लोगों की रुचि पशुपालन में नहीं होगी और ऐसे में देश भर में दूध की खपत बढ़ेगी। अगर आप भी दूध का कारोबार शुरू करना चाहते हैं तो आपको भविष्य में दूध के कारोबार में काफी मुनाफा होने वाला है।

आज के लेख में हमने बात की Milk Dairy Business Plan in Hindi हमने इस व्यवसाय को शुरू करते समय उन सभी बातों के बारे में बात की जो हमें ध्यान में रखनी चाहिए, व्यवसाय का स्थान क्या होगा, इस व्यवसाय को शुरू करने में कितना खर्च आएगा, आदि।

आशा है कि आप जानते हैं कि यह Milk Dairy Business Plan in Hindi आपको लेख पसंद आया होगा और दूध उत्पादन व्यवसाय से जुड़े सवालों के जवाब आपको आज के इस लेख में मिल गए होंगे। अगर आपका इस लेख से जुड़ा कोई सवाल या सुझाव है तो कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Leave a Comment

error: Content is protected !!