इंजेक्शन का आविष्कार किसने किया- Injection Ka Avishkar Kisne Kiya

क्या आप जानते हैं Injection Ka Avishkar Kisne Kiya दोस्तों अगर आप नहीं जानते हैं कि Injection Ka Avishkar Kisne Kiya तो यह लेख आखिर तक जरूर पढ़ें। इसमे हम आपको Injection Ka Avishkar Kisne Kiya इसके बारे में पूरी जानकारी देंगे।

इलाज के दौरान किसी भी मरीज को इंजेक्शन देना आज आम बात हो गई है। आजकल इंजेक्शन और सुई को एक बार इस्तेमाल करने के बाद फेंक दिया जाता है। इन्हें ‘डिस्पोजेबल’ कहा जाता है। इनमें भी अलग-अलग संख्या की सुइयां कुछ महीन और कुछ मोटी होती हैं, जो वयस्क कचरे के लिए अलग-अलग उपयोग के लिए बनाई जाती हैं।

इन सुइयों का उपयोग ग्लूकोज आदि की बोतलें चढ़ाने में भी किया जाता है। आज मनुष्यों के अलावा, जानवरों और पक्षियों को भी विभिन्न दवाओं के उपचार और प्रयोगात्मक उपयोग के लिए इंजेक्शन लगाया जाता है। इसका विकास विभिन्न अभ्यासियों द्वारा किए गए क्रमिक सुधार का परिणाम है।

इंजेक्शन का आविष्कार किसने किया- Injection Ka Avishkar Kisne Kiya

वैक्सीन बनाने वाली पहली प्रयोगशाला फ्रांसीसी जीवविज्ञानी लुई पाश्चर द्वारा बनाई गई थी, जिसके बाद इस प्रक्रिया को पाश्चराइजेशन नाम दिया गया था। उन्होंने चिकन शोरबा में बैक्टीरिया की खेती की, लेकिन पाया कि बैक्टीरिया खराब हो गए थे और मुर्गियों में बीमारी पैदा नहीं करते थे।

जब उन्होंने उन्हीं मुर्गियों को ताजा बैक्टीरिया के साथ इंजेक्ट करने की कोशिश की, तो उन्होंने पाया कि वे इस बीमारी से प्रतिरक्षित थे। पाश्चर ने एंथ्रेक्स, स्वाइन एरिज़िपेलस और रेबीज के टीके भी लगाए। टीकाकरण वास्तव में रोग पैदा किए बिना एंटीबॉडी विकसित करने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को उत्तेजित करके काम करता है। कई चिकित्सा प्रणालियों में टीकाकरण अब आम है। उन्होंने चेचक के उन्मूलन के लिए जिम्मेदार वैक्सीन, संचारी रोगों से होने वाली मौतों की संख्या में भारी कमी की है।

पहला टीका इंसान को दिया गया था जिसे एडवर्ड जेनर ने बनाया था। जेनर ने इस टीके को 1796 में विकसित किया, जब उन्होंने देखा कि अगर वे पहले से ही किडनी से ग्रस्त हैं तो दूधिया चेचक को नहीं पकड़ती हैं। उसने एक महिला के संक्रमित छाले से एक लड़के को कैसपॉक्स का इंजेक्शन लगाया।

बाद में उन्हें चेचक का फिर से इंजेक्शन लगाया गया लेकिन उन्होंने कहा कि उन्हें यह बीमारी नहीं है। उन्होंने इसे “एन इंक्वायरी इन द कॉज एंड इफेक्ट्स ऑफ द विरियोला वैक्सीन” नामक एक पेपर में लिखा था, जहां से वैक्सीन शब्द आया है। उनके पेपर का कई भाषाओं में अनुवाद किया गया और परिणामस्वरूप हजारों लोगों को टीका लगाया गया।

आज, सीरिंज इंजेक्शन योग्य दवाओं को प्रशासित करने का मानक तरीका है। हाइपोडर्मिक सिरिंज में एक पंप जैसी डिवाइस और एक खोखली सुई होती है जिसे रक्तप्रवाह तक पहुंचने के लिए त्वचा को छेदने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इस पद्धति का उपयोग करके, पदार्थों को इंजेक्ट किया जा सकता है या तरल पदार्थ निकाला जा सकता है। सिरिंज के जरिए दवा पहुंचाना कोई नया विचार नहीं है, लेकिन तकनीक समय के साथ विकसित हुई है।

इन्जेक्शन का इतिहास (Injection Ka Avishkar Kisne Kiya)

बात साल 1656 की है ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में सेवारत गणित के एक प्रोफेसर ने एक परिचित रॉबर्ट बील के सामने दावा किया कि वह किसी भी जानवर के खून में एक तरल पदार्थ डाल सकता है। यह प्रोफेसर थे डॉ. रेन। बील रेन की बात की जांच करना चाहता था। उन्होंने डॉ. रेन को एक बड़ा कुत्ता पेश करके अपने दावे को प्रदर्शित करने के लिए कहा।

डॉ. रेन ने भी अपने दावे की पुष्टि के लिए धतूरा के जहर को कुत्ते के शरीर में इंजेक्ट किया। यह प्रयोग कई डॉक्टरों और बुद्धिजीवियों के सामने किया गया। प्रदर्शन सफल रहा। धतूरे के जहर का असर उस कुत्ते पर कुछ देर बाद देखने को मिला।

एक साल बाद एक घरेलू नौकर की धमनी में Croix Meterol नामक पदार्थ को इंजेक्ट किया गया, लेकिन यह प्रयोग अधिक प्रभावी नहीं हुआ।

सन 1628 ई. में विलियम होर्व नाम के एक सर्जन ने शरीर में निश्चित मार्ग और धमनियों के बीच हृदय तक रक्त के प्रवाह के संबंध के बारे में जानकारी दी। तभी से जानवरों के खून में दवा मिलाने का विचार चल रहा था।

लेकिन इस दिशा में सभी अपने-अपने स्तर पर प्रयोग कर रहे थे। 1844 ई. के आसपास जब मानव त्वचा की सतह के नीचे इंजेक्शन लगने लगे तो डॉक्टरों का ध्यान इंजेक्शन की सुई और उसके डिजाइन पर भी गया। पहले सुई बहुत मोटी होती थी। यह इतना तेज भी नहीं था कि बिना ज्यादा दर्द के मानव शरीर में प्रवेश कर सके।

पहली बेहतर सुई और इंजेक्शन का इस्तेमाल 3 जून 1844 को डॉ. फ्रांसिस रिंड ने डरबिलोन के मीथ अस्पताल में किया था। डॉ. रिंद ने भी लगातार 17 वर्षों तक इस इंजेक्शन को किसी को नहीं बताया और न ही इसके निर्माण की विधि आदि के बारे में किसी को बताया।

1861 में उन्होंने अपने इंजेक्शन के बारे में एक लेख लिखा। यहां 1853 में एडिनबर्ग निवासी डॉ एलेक्जेंडर वुड ने भी एक इंजेक्शन तैयार किया था। इसकी लंबाई 90 मिमी है। और चौड़ाई 10 मिमी। था। इसके पिस्टन के ऊपरी हिस्से को रुई से लपेट कर इंजेक्शन में लगाया गया था। इंजेक्शन के विकास में किए गए उपरोक्त प्रयासों को भुलाया नहीं जा सकता है।

आज आपने क्या सीखा?

तो दोस्तों आज कि इस लेख में हमने आपको बताया कि आखिर Injection Ka Avishkar Kisne Kiya दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी Injection Ka Avishkar Kisne Kiya यह अच्छी लगती है तो कृपया इसे अन्य लोगों तक भी शेयर करें।

Leave a Comment

error: Content is protected !!