Neutron ki khoj kisne ki और कब? 2022

नमस्कार दोस्तों स्वागत हैं आपका हमारे इस नए लेख में आज हम आपको बताने वाले हैं कि neutron ki khoj kisne ki अगर आप Science के विद्यार्थी हैं तो आपने ने न्यूट्रॉन के बारे में जरूर सुन होगा क्योंकि इसके बिना तो Science भी अधूरा हैं।

दोस्तों न्यूट्रॉन क्या है यह क्या करता है? ऐसे कई सवाल हमारे मन में उठते रहते हैं तथा neutron ki khoj kisne ki होगी यह भी हमारे दिमाक में आते रहता है । इसलीये मैंने सोच कि क्यों न न्यूट्रॉन की खोज किसने की इस पार एक लेख लिखकर आप लोगों को इसके बारे में बताया जाए।

दोस्तों परमाणु की आंतरिक संरचना हमेशा से वैज्ञानिकों के लिए एक जटिल समस्या रही है। इस रहस्य को सुलझाने के लिए वैज्ञानिकों ने कई प्रयास किए। यद्यपि वैज्ञानिकों ने 1900 के दशक की शुरुआत में ही यह खोज लिया था कि परमाणु में ऋणात्मक रूप से आवेशित इलेक्ट्रॉन और धनावेशित प्रोटॉन होते हैं, लेकिन इलेक्ट्रॉनों और प्रोटॉन का कुल द्रव्यमान परमाणु के कुल द्रव्यमान से कम था।

इससे उन्हें संदेह हुआ कि परमाणु के अंदर कुछ उदासीन कण अवश्य होंगे। बाद में इस उदासीन कण की खोज हुई, जिसे हम आज ‘Neutron (न्यूट्रॉन)‘ के नाम से जानते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं न्यूट्रॉन की खोज किसने की अगर नहीं जानते तो इस लेख को पूरा पढ़ें।

न्यूट्रॉन क्या है?

न्यूट्रॉन, इलेक्ट्रॉन जैसे सूक्ष्म कण होते हैं जिन पर कोई आवेश नहीं होता है, जिसके कारण वे विद्युत और चुंबकीय बलों से प्रभावित नहीं होते हैं। प्रकृति में विद्युत चुम्बकीय बलों की बहुत विशिष्ट भूमिका होती है। ये बल मुख्य रूप से आकार के लिए जिम्मेदार हैंई परमाणुओं और अणुओं और ठोस की संरचना।

रासायनिक प्रतिक्रियाओं में परमाणु इलेक्ट्रॉनों का आदान-प्रदान अणु मिश्रण या साझा करके बनाए जाते हैं, लेकिन न्यूट्रॉन ऐसे कण होते हैं जो किसी भी पदार्थ से संपर्क नहीं करते हैं, इसलिए परमाणु-भौतिकी में उनकी कोई भूमिका नहीं होती है।

न्यूट्रॉन एक अजीब कण है। चूंकि पदार्थ के कणों के साथ कोई संपर्क नहीं है, वे बिना किसी बाधा के गुजरते हैं, पदार्थ की सबसे मोटी परतों में भी प्रवेश करते हैं। 130 अरब प्रकाश वर्ष मोटी लोहे की चादर भी उन्हें रोक नहीं सकती।

पहले वैज्ञानिकों का मानना ​​था कि न्यूट्रॉन का द्रव्यमान नहीं होता है, लेकिन वर्ष 2002 में भौतिकी के क्षेत्र में न्यूट्रॉन , के. डेविस और मासातोशी कोशिबा से संबंधित शोध के लिए। उन्हें अपने ग्रह के ऊपरी वायुमंडल के अलावा, ब्रह्मांड की सबसे दूर की गहराई से न्यूट्रॉन की पहचान करने की दिशा में उपरोक्त वैज्ञानिकों के सराहनीय कार्य के लिए पुरस्कृत किया गया था। डेविस ने सूर्य से न्यूट्रॉन की पहचान की और कोशिबा ने 1987 के सुपरनोवा विस्फोट से न्यूट्रिनो की पहचान की। इन प्रयोगों ने वैज्ञानिकों की परिकल्पना को साबित कर दिया कि न्यूट्रॉन द्रव्यमान रहित हैं।

neutron ki khoj kisne ki और कब?

दोस्तों न्यूट्रॉन की खोज सन 1932 में सर James Chadwick (जेम्स चैडविक) नाम के एक ब्रिटिश भौतिक वैज्ञानिक ने की थी। उन्होंने अपने प्रयोगों के आधार पर पता लगाया कि परमाणु के नाभिक में उदासीन कण होते हैं जिन्हें न्यूट्रॉन कहा जाता है। जब इन कणों का द्रव्यमान प्रोटॉन के द्रव्यमान के साथ संयुक्त हो जाता है, तो कुल द्रव्यमान एक परमाणु के बराबर हो जाता है। चैडविक को न्यूट्रॉन के आविष्कार के लिए 1935 में भौतिकी में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

neutron ki khoj kisne ki

सर चैडविक और न्यूट्रॉन की खोज

न्यूट्रॉन के आविष्कारक सर चैडविक का जन्म 20 अक्टूबर, 1891 को इंग्लैंड के बोलिंगटन शहर में हुआ था। उन्होंने मैनचेस्टर और कैम्ब्रिज विश्वविद्यालयों में शिक्षा प्राप्त की।

1923 के बाद, उन्होंने रदरफोर्ड प्रयोगशाला में तत्वों के परिवर्तन पर काम किया। तत्वों के परिवर्तन के लिए तत्वों के नाभिक पर अल्फा कणों का छिड़काव किया गया, जिससे एक तत्व दूसरे तत्व में परिवर्तित हो गया। इन प्रयोगों ने सर चैडविक को परमाणु के नाभिक का अधिक विस्तार से पता लगाने का अवसर दिया। 1927 में, उन्हें रॉयल सोसाइटी का फेलो बनाया गया, जो दुनिया में विज्ञान के विकास के लिए समर्पित एक संगठन है।

1932 में उन्होंने बेरिलियम नामक एक रासायनिक तत्व को अल्फा कणों के माध्यम से अन्य वैज्ञानिकों तक पहुँचाया और साबित किया कि बेरिलियम के साथ अल्फा कणों की टक्कर से जो नए कण निकलते हैं, उनका द्रव्यमान लगभग प्रोटॉन के द्रव्यमान के समान होता है, लेकिन ये मुक्त कण उदासीन होते हैं, इनमें आवेश नहीं होता है। बिना आवेश के ये कण ‘न्यूट्रॉन’ थे। इसके बाद उन्होंने न्यूट्रॉन की अन्य विशेषताओं की भी खोज की। परमाणु के इस उदासीन कण की खोज के लिए सर जेम्स चैडविक को 1935 में भौतिकी का नोबेल पुरस्कार दिया गया था।

न्यूट्रॉन की खोज के कारण ही आज परमाणु और न्यूट्रॉन बम जैसे खतरनाक और विनाशकारी हथियारों का निर्माण और प्रयोगशाला में तत्वों को यूरेनियम से भारी बनाना संभव हो पाया है। परमाणु भौतिकी में इन महत्वपूर्ण योगदानों के लिए, उन्हें 1932 में ह्यूजेस मेडल, 1950 में कोपले मेडल और 1951 में रॉयल सोसाइटी द्वारा फ्रैंकलिन मेडल से सम्मानित किया गया।

सर चाडविक ने जर्मन भौतिक विज्ञानी हंस गीगर की देखरेख में बर्लिन में लगभग 4 वर्षों तक कई शोध किए। हंस गीगर ने गीजर काउंटर का आविष्कार किया। इस उपकरण का उपयोग करके बाद में परमाणु के नाभिक की खोज की गई।

सर जेम्स चैडविक ने भी चेन रिएक्शन पर बहुत महत्वपूर्ण कार्य किया। इन परमाणु प्रतिक्रियाओं के कारण परमाणु विखंडन होता है और इस प्रक्रिया का उपयोग करके आज परमाणु भट्टियों में बिजली का उत्पादन किया जाता है। उन्होंने सर्वप्रथम समस्थानिकों का विवरण प्रस्तुत किया। आइसोटोप का उपयोग आज दुनिया भर में कई रूपों में किया जा रहा है। रोगों के निदान और उपचार के लिए विभिन्न तत्वों के समस्थानिकों का उपयोग किया जाता है।

उदाहरण के लिए, कोबाल्ट के एक समस्थानिक का उपयोग कैंसर के उपचार में किया जाता है। कृषि विज्ञान में इनका प्रयोग बड़े पैमाने पर हो रहा है। वर्तमान में, देश में समस्थानिकों का उत्पादन बंबई में भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र द्वारा बहुत उच्च स्तर पर किया जा रहा है।

neutron ki khoj kisne ki

न्यूट्रॉन की उपयोगिता

आज परमाणु की संरचना से जुड़े तमाम रहस्य सुलझ चुके हैं। किसी भी परमाणु के मध्य भाग को नाभिक कहते हैं। नाभिक में धनावेशित प्रोटॉन होते हैं और उदासीन कण न्यूट्रॉन होते हैं। ऋणावेशित इलेक्ट्रॉन परमाणु के नाभिक के चारों ओर विभिन्न कक्षाओं में चक्कर लगाते हैं। प्रोटॉन का द्रव्यमान न्यूट्रॉन के द्रव्यमान से थोड़ा कम होता है। न्यूट्रॉन कणों की खोज विज्ञान के लिए वरदान साबित हुई है। परमाणु बम का निर्माण न्यूट्रॉन द्वारा ही संभव हुआ था। चूंकि ये कण उदासीन होते हैं, इसलिए उन्होंने नाभिक के विखंडन को संभव बनाया।

धीमे न्यूट्रॉनों का उपयोग नाभिकीय विखंडन में तथा तीव्र न्यूट्रॉनों का उपयोग नाभिकीय विघटन में किया जाता है। चूँकि न्यूट्रॉन आवेशहीन और उच्च ऊर्जा वाले कण होते हैं, वे आसानी से धनावेशित नाभिक में प्रवेश कर जाते हैं और बिना विक्षेपित हुए परमाणु के नाभिक को तोड़ देते हैं। इससे परमाणु ऊर्जा उत्पन्न करने की विधियों का विकास हुआ।

neutron ki khoj kisne ki

न्यूट्रॉन की खोज कर्ता कौन है?

Nyutrana Meaning in Hindi – न्यूट्रॉन का मतलब हिंदी में न्यूट्रॉन इंग्लिश [संज्ञा पुल्लिंग] परमाणु में उपस्थित आवेशरहित सूक्ष्मकण।

न्यूट्रॉन को हिंदी में क्या कहते हैं?

दोस्तों न्यूट्रॉन की खोज सन 1932 में सर James Chadwick (जेम्स चैडविक) नाम के एक ब्रिटिश भौतिक वैज्ञानिक ने की थी।

आज आपने क्या सीखा?

तो दोस्तों आज कि इस लेख में मैंने आप सब को neutron ki khoj kisne ki और कब? इसके बारे में विस्तार से समझाया है, अगर आपको इसमे कहीं कमी नजर आती है तो कृपया कॉमेंट करें ताकि हम उसे दूर कर सके।

अगर अआपको मेरा यह लेख न्यूट्रॉन की खोज किसने की और कब? पसंद आता हैं तो इसे अपने सोशल मीडिया में शेयर जरूर करें।

1 thought on “Neutron ki khoj kisne ki और कब? 2022”

Leave a Comment

error: Content is protected !!