प्रिंटिंग प्रेस का आविष्कार किसने किया था?

नमस्कार दोस्तों स्वागत हैं आपका हमारे इस नए आर्टिकल में आज हम आपको बताने वाले हैं कि आखिर प्रिंटिंग प्रेस का आविष्कार किसने किया था? अपने इस मशीन का नाम तो सुना ही होगा क्योंकि यह दैनिक समाचार जैसे माध्यमों के लिए बहुत ही उपयोगी मशीन है क्योंकि प्रिंटिंग प्रेस से ही न्यूज पेपर तैयार किये जाते हैं। 

अगर आप जानना चाहते हैं कि प्रिंटिंग प्रेस का आविष्कार किसने किया था? तो यह आर्टिकल पूरा पढ़ें क्योंकि आज हम आपको इस आर्टिकल में प्रिंटिंग प्रेस का आविष्कार किसने किया इसके बारे में पूरी जानकारी देंगे।

प्रिंटिंग प्रेस का इतिहास? 

प्रिंटिंग प्रेस का आविष्कार किसने किया था? यह जानने से पहले इसके इतिहास के बारे में जानना ज्यादा जरूरी है, Printing press (मुद्रणालय) का आविष्कार चीन में हुआ था। विश्व की पहली मुद्रित पुस्तक ‘हरिकसूट’ 868 ई. में छपी थी। इस पुस्तक को ‘वाग्चिक’ ने लकड़ी की मुहर से छापा था। वे पत्र बहुत जल्दी खराब हो जाते हैं और खराब हो जाते हैं। इस कारण लोगों का ध्यान धातु की मुहर बनाने की ओर आकर्षित हुआ। इस काम में करीब 400 साल लगे।

‘पी शेंग’ नाम के एक चीनी व्यक्ति ने तेरहवीं शताब्दी में मिट्टी और धातु के प्रकार बनाए। 1319 ई. में कोरिया के राजा ने धातु के प्रकार बनाने के लिए एक कारखाना स्थापित किया। इस प्रकार 1409 ईस्वी में उस कारखाने से बनी कांस्य प्रकार की एक पुस्तक छपी थी। जर्मनी का एक व्यक्ति सुनार था। उसका नाम जोहान्स गुटेनबर्ग था। पंद्रहवीं शताब्दी की शुरुआत में, उन्होंने जर्मनी के मेन्ज़ शहर के टकसाल में एक डाक टिकट के रूप में काम किया। इन टिकटों से सिक्के ढाले जाते थे।

वह हमेशा कर्ज में डूबा रहता था। उसके पास हमेशा पैसों की कमी रहती थी। अधिक पैसे की व्यवस्था नहीं की जा सकी। लेकिन अमीर बनने के लिए उसके दिमाग में नए-नए तरह के फिटर पैदा होते रहते थे। 1430 ई. में, वह मेंज से स्ट्रासबर्ग चले गए। वहां उन्होंने पत्थर तराशने का कारोबार शुरू किया। दुर्भाग्य से, वह इस व्यवसाय में सफलता प्राप्त नहीं कर सका। इसके बाद उन्होंने काम की तलाश में स्ट्रासबर्ग छोड़ दिया।

वह 1448 ई. में मेंज वापस आया। वहां उन्होंने एक नई योजना को लागू करना शुरू किया। उन्होंने अपना ध्यान पुस्तकों के प्रकाशन की ओर लगाया। इसके लिए उन्होंने एक नया तरीका सोचा। उन दिनों यूरोप में ज्यादातर किताबें हाथ से लिखी जाती थीं। यही कारण था कि वे अधिक मूल्यवान थे। कुछ किताबें लकड़ी के ब्लॉकों से छपी थीं। उन पर चित्र और पत्र उकेरे गए थे।

सदियों से चीन के लोग इसी प्रक्रिया से किताबें छापते थे। यह एक लंबी और धीमी प्रक्रिया थी। जोहान्स गुटेनबर्ग ने अक्सर पत्थरों पर नाम के आद्याक्षर उकेरे। इन पत्थरों को कागज पर मोम लगाकर सील करने के लिए ‘मुहर’ के रूप में इस्तेमाल किया जाता था। कभी-कभी इन मुहरों पर स्याही से, कागज पर मुहर लगाई जाती थी।

जोहान्स के दिमाग में अचानक बिजली की तरह कौंध गई – अगर उनके पास बड़ी संख्या में विभिन्न अक्षर उकेरे गए हों, तो उनसे शब्द, वाक्य और पृष्ठ बनाए जा सकते थे। फिर उसने सोचा कि उन्हें धातु से बनाने में काफी समय लगेगा। इसलिए उन्होंने सबसे पहले लकड़ी के पत्र तैयार किए। इन लकड़ी के अक्षरों को रेत पर दबाकर जो जगह बनाई गई, उसके ऊपर तरल धातु डाल दी और अपनी जरूरत के सभी अक्षरों को ढाला।

वे अक्षर अलग थे, इसलिए उनसे कोई भी शब्द बनाया जा सकता था। उसके बाद, उन्हें छपाई के किसी भी नए काम में अलग से इस्तेमाल किया जा सकता था।

जोहान्स धातु ‘पीतल’ का उपयोग करने वाले पहले व्यक्ति थे। पत्रों की ढलाई के बाद, उन्हें सावधानीपूर्वक पॉलिश किया गया और समाप्त किया गया। हाँ, ये सभी अक्षर समान नहीं थे। इससे भी बदतर, जब जोहान्स उन्हें स्याही और छापते थे, तो उन्हें बहुत मुश्किल से पत्रों को दबाना पड़ता था। जाहिर है, इससे अक्षरों का आकार बिगड़ गया होगा।

जोहान्स ने इस पर पुनर्विचार किया। उसने रेत पर पत्र डालना बंद कर दिया। उन्होंने सीसा पर पत्र ढलाई का काम शुरू किया। यह तरीका पहले से बेहतर था, क्योंकि इसमें मुख्य अक्षरों को ज्यादा पॉलिश करने की जरूरत नहीं पड़ती थी। प्रकार इतना नरम था कि यह प्रेस में टूट जाएगा। छपाई बहुत सरल थी। यह मुश्किल था तो केवल टाइप कास्ट करने का काम। जोहान्स ने इस प्रकार की गुणवत्ता पर विचार किया। उन्होंने सीसा और टिन के विभिन्न मिश्रणों का इस्तेमाल किया। उनसे कुछ छपाई भी की। इस काम के लिए काफी पैसे की जरूरत थी। जबकि वह एक बेवकूफ किस्म का इंसान था।

यह लगभग 1450 ई. एक सेठ इस काम में उसकी मदद करने को तैयार हो गया। उस सेठ का नाम था ‘होहन फस्ट’। उन्होंने जोहान्स की आर्थिक मदद करना शुरू किया। उसने उसे जोहान्स के काम के लिए पर्याप्त पैसा दिया। उसके पास इतना पैसा आया कि एक साल तक वह आराम से अपने प्रयोग करता रहा।

जोहान्स ने पहली बार अपनी पुस्तक प्रकाशित की। किताब का नाम ‘द आर्ट ऑफ स्पीच’ था। वह किताब सिर्फ 28 पेज की थी। इस पुस्तक का प्रत्येक पृष्ठ अलग से छपा था। इस वजह से किताब खरीदार उन पन्नों को एक क्रम में लेते थे। उस समय पुस्तक खरीदने और पढ़ने वालों की संख्या न के बराबर थी। हालाँकि, साक्षरता बहुत कम थी। जोहान्स ने किताब छापी थी, लेकिन इसे खरीदा नहीं जा सका।

इस वजह से जोहान्स की आर्थिक स्थिति खराब होने लगी। इस तरह पांच साल बीत गए। अपनी छपाई की विफलता के कारण, उन्होंने इस बीच ‘बाइबल’ भी छापा। वह बाइबिल 1282 पृष्ठों की थी। उनकी तीन सौ प्रतियां छपी थीं। इसकी 21 प्रतियां आज की दुनिया में बची हैं।

इस बीच, सेठ होहन फॉस्ट जोहान्स आए। उसने जोहान्स से उसके पैसे मांगे। इस पर जोहान्स ने अपनी पूरी अक्षमता जाहिर की। फिर क्या था, सेठ ने जोहान्स पर दावा ठोंका। जोहान्स विवश था। फिर क्या जोहान्स ने सेठ को अपना टाइप प्रेस, टूल्स और पेपर दिया। सेठ ने ये सारी सामग्री पीटर शोभर नाम के एक अन्य स्टोकर को दे दी। जिसने टाइप कास्ट करने के तरीके में काफी सुधार किया।

जोहान्स 1465 ई. में मेंज के महायाजक के दरबार में पहुंचा। वहां उन्होंने अपनी बात रखी। इस तरह उन्हें महायाजक के दरबार में नौकरी मिल गई। छपाई उनके कामों में नहीं थी। वह अस्थायी रूप से इस तरह इधर-उधर भटकता रहा। अंत में, उनके जीवन का धागा टूट गया और उन्हें भगवान से प्यार हो गया। लेकिन छपाई के इतिहास में उनका नाम अमर हो गया।

प्रारंभ में, लैटिन पुस्तकें सभी देशों में छपी थीं। पहली बार इंग्लैंड के विलियम कैक्सटन ने 1476 ई. में अंग्रेजी भाषा में एक पुस्तक प्रकाशित की। उन दिनों जर्मनी में अंग्रेजी टाइप की जाती थी।

1556 ई. में छपाई की मशीनें भारत में अपने देश पहुँचीं। भारत में प्रिंटिंग प्रेस के बारे में वर्ष 1563 में एक किताब प्रकाशित हुई थी। मलयालम-तमिल प्रकार का पहली बार भारत में 1577 ईस्वी में कोचीन में एक स्पैनियार्ड द्वारा खनन किया गया था। उस स्पेनिश का नाम था- ‘ले ब्रदर’।1578 ई. तक कुछ अन्य भागों में छपाई का प्रयोग शुरू हो गया। वर्ष 1578 में ‘ईसाई-सिद्धांत’ नामक पुस्तक ‘मालवरी’ (तमिल भाषा) में प्रकाशित हुई।

मलयालम में ‘क्रिश्चियन पुराणम’ नामक पुस्तक 1616 ई. में प्रकाशित हुई थी। इसके बाद ‘ईसाई प्रचार संगठन’ ने चेन्नई और कोलकाता में प्रिंटिंग प्रेस की स्थापना की। इसके पीछे उनका मकसद ‘सच्चाई का संदेश’ फैलाना और ‘जीवन-ज्योति’ को रोशन करना था। चार्ल्स विल्किंस ने ‘श्रीमद्भगवद गीता’, ‘हितोपदेश’ और ‘अभिज्ञान शकुंतलम’ का अंग्रेजी में अनुवाद किया था। विल्किंस द्वारा तैयार ‘हितोपदेश’ 1787 ई. में लंदन में प्रकाशित हुआ था।

1792 ई. में महाकवि कालिदास की रचना ‘ऋतुसंहार’ कोलकाता में प्रकाशित हुई। यह देवनागरी लिपि में भारत में प्रकाशित पहली पुस्तक है। इस पुस्तक के देवनागरी प्रकार को ‘हुगली’ में ढाला गया था। पहले भारतीय भाषाओं के प्रकार इंग्लैंड से आते थे।

1802 ई. में कोलकाता से ‘मुर्सिया’, ‘माधवनाल’ और ‘सिंघासन बत्तीसी’ का प्रकाशन हुआ। हिन्दी में छपने वाले प्रारम्भिक ग्रंथों में उनका उल्लेखनीय स्थान है। 1803 ई. में ‘प्रेमसागर’ और ‘रामचरितमानस’ प्रकाशित हुए। वर्ष 1860 तक ‘सिरामपुर’ को पूर्वी देशों में टाइप-मेकिंग का सबसे बड़ा केंद्र माना जाता था।

भीमजी पारिख नाम के व्यक्ति द्वारा मुंबई के निजी क्षेत्र में पहला प्रिंटिंग प्रेस स्थापित करने का प्रयास किया गया था। वर्ष 1874-75 में उन्हें इंग्लैंड से एक प्रिंटिंग प्रेस मिली। शिल्पकारों की कमी और ईस्ट इंडिया कंपनी के अधिकारियों के असहयोगी रवैये के कारण उनका प्रयोग असफल रहा।

पश्चिमी क्षेत्र में भारतीय भाषा का पहला प्रिंटिंग प्रेस वर्ष 1812 में स्थापित किया गया था। इसे म्यू के मरदून जी मरजबन नामक व्यक्ति ने लगाया था।एमबाई 1812 ई. में प्रिंटिंग प्रेस से ‘मराठी-अल्मनैक’ का प्रकाशन हुआ। वर्ष 1816 में ‘अमेरिकन मिशन प्रेस’ की स्थापना हुई। उस प्रेस के प्रशासकों ने शुरू से ही देश में देवनागरी और मराठी टाइप बनाने का प्रयास किया।

वर्ष 1864 में, ‘निर्नय सागर प्रेस’ के मालिक स्वामी सावजी दादा जी नाम के एक व्यक्ति ने अपनी प्रसिद्ध भारत फाउंड्री ‘निर्नय सागर’ की स्थापना की। फाउंड्री’। इससे ‘अमेरिकन मिशन प्रेस’ और ‘निर्नय सागर फाउंड्री’ में देवनागरी और मराठी प्रकारों का स्वतंत्र विकास हुआ।

हालांकि गुटेनबर्ग ने आज की दुनिया की सबसे बड़ी प्रिंटिंग प्रेस का आविष्कार किया, लेकिन वह इस आविष्कार के साथ कभी विकसित नहीं हुए। गुटेनबर्ग के आविष्कारों ने प्रिंटिंग प्रेस के रूप में दुनिया की बहुत सेवा की। कंप्यूटर सिस्टम द्वारा छपाई से पहले, उनका आविष्कार दुनिया में छोटे से लेकर बड़े लाखों प्रिंटिंग प्रेस तक हर तरह की छपाई करता रहा। वर्तमान में न तो प्रतिदिन बहुत सी पुस्तकें प्रकाशित होती हैं और न ही बहुत से समाचार पत्र और पत्रिकाएँ प्रकाशित और प्रकाशित होती हैं।

प्रिंटिंग प्रेस का आविष्कार किसने किया था?

जोहान्स गुटेनबर्ग (जर्मन: जोहान्स गुटेनबर्ग, 1398-1468) टाइप के माध्यम से प्रिंटमेकिंग के आविष्कारक। वह जर्मनी के मेंज का रहने वाला था। उन्होंने 1439 में प्रिंटिंग प्रेस का निर्माण किया, जिसे एक महान आविष्कार माना जाता है।

प्रिंटिंग प्रेस के क्या लाभ है?

एक प्रिंटिंग प्रेस एक ऐसी मशीन है जो बड़ी मात्रा में पुस्तकों, पत्रिकाओं और अन्य पाठ-आधारित वस्तुओं का उत्पादन करने की अनुमति देती है।प्रिंटिंग प्रेस इतना महत्वपूर्ण था क्योंकि इसने दुनिया भर में राजनीतिक, सामाजिक, आर्थिक और धार्मिक विचारों के तेजी से प्रसार की अनुमति दी थी।

इन्हें भी पढ़ें:-

आज आपने क्या सीखा?

तो दोस्तों आज कि इस लेख में मैंने आपको बताया कि आखिर प्रिंटिंग प्रेस का आविष्कार किसने किया था?अगर आपको यह लेख अच्छा लगता है तो कृपया इसे अन्य लोगों तक भी शेयर करें।

Leave a Comment