चेचक के टीके की खोज किसने की और कब {Updated} 2022

नमस्कार दोस्तों स्वागत हैं आपका हमारे इस नए पोस्ट मेँ आज हम आपको बताएंगे कि आखिर चेचक के टीके की खोज किसने की या chechak ke tike ka avishkar kisne kiya tha अगर आप यह महत्वपूर्ण जानकारी जानकारी जानना चाहते है तो कृपया इस लेख को आखिर तक जरूर पढ़ें। 

ढाई सौ साल पहले चेचक को सबसे भयानक बीमारी माना जाता था। चेचक से कई रोगियों की मृत्यु हो गई और जो बच गए वे विकृत हो गए। उसके चेहरे पर चोट के निशान थे। कई मरीजों की नजर खराब थी। कुछ महामारियों में हजारों लोग मारे गए। लेकिन क्या आप चेचक के टिके की खोज किसने की जानते हैं? तो आपको बता दें, इस बीमारी के टीके की खोज अंग्रेज चिकित्सक और वैज्ञानिक एडवर्ड जेनर ने 1796 में की थी।

चेचक का टीका और एडवर्ड जेनर

एडवर्ड जेनर एक अंग्रेजी चिकित्सक और वैज्ञानिक थे जो चेचक के टीके की खोज के लिए विश्व प्रसिद्ध हैं। उन्हें ‘इम्यूनोलॉजी’ का जनक भी कहा जाता है। 1796 में उनके द्वारा विकसित चेचक का टीका दुनिया का पहला टीका था जिसका उपयोग किसी बीमारी को रोकने के लिए किया गया था। उनकी खोज चिकित्सा विज्ञान के लिए एक महत्वपूर्ण खोज थी। इस वैक्सीन की वजह से आज दुनिया चेचक मुक्त हो गई है।

चेचक के टीके की खोज किसने की

इम्यूनोलॉजी के जनक

एडवर्ड जेनर का जन्म 17 मई, 1749 को इंग्लैंड के ग्लूस्टरशायर जिले के एक गांव बर्कले में हुआ था। जेनर जब 5 साल के थे तब उनके पिता का देहांत हो गया था। अपने पिता की मृत्यु के बाद, उनका पालन-पोषण उनके बड़े भाई ने किया, जो उनके पिता के समान पुजारी थे। [जानें- किन वैज्ञानिकों ने विभिन्न प्रकार के विटामिनों की खोज की?

जेनर प्रकृति प्रेमी थे, जिसके कारण उन्हें प्राकृतिक इतिहास में विशेष रुचि थी और प्रकृति का यह प्रेम जीवन का पर्याय बना रहा। ‘ग्रामर स्कूल’ (इंग्लैंड के माध्यमिक विद्यालय) से अपनी प्रारंभिक शिक्षा पूरी करने के बाद, वे 13 साल की उम्र में चिकित्सा शिक्षुता के लिए पास के गांव चिपिंग सडबरी, सर्जन डैनियल लुडलो गए। यहां उन्होंने 8 साल तक लुडलो के संरक्षण में काम किया और चिकित्सा और शल्य चिकित्सा की गहरी समझ प्राप्त की.

१७६६ में प्रशिक्षण के दौरान एक दिलचस्प बात हुई। एक दिन एक गुलिन सर्जन लुडलो के पास कुछ सलाह के लिए आया। इसी बीच इंग्लैंड में उस समय तेजी से फैल रही चेचक की बीमारी के बारे में बात हुई और ग्वालिन ने कहा- ‘मुझे चेचक की भयानक बीमारी नहीं हो सकती, न ही चेहरे पर वो गंदे फुंसी हो सकते हैं, क्योंकि मुझे चेचक है। एडवर्ड जेनर ने भी ये बातें सुनीं लेकिन कोई खास ध्यान नहीं दिया।

21 साल की उम्र तक अप्रेंटिसशिप के बाद वे एनाटॉमी और सर्जरी का अध्ययन करने के लिए लंदन के सेंट जॉर्ज अस्पताल गए जहां उन्हें तत्कालीन प्रसिद्ध सर्जन ‘जॉन हंटर’ के तहत अध्ययन करने का अवसर मिला।

लंदन में 3 साल (1770 से 1773 तक) अध्ययन करने के बाद, वह चिकित्सा का अभ्यास करने के लिए अपने गृहनगर बर्कले लौट आए। उन्हें बर्कले में काफी सफलता मिली, जहां उन्होंने चिकित्सा के अभ्यास के साथ-साथ चिकित्सा ज्ञान को बढ़ावा देने के लिए दो चिकित्सा समूहों में शामिल हो गए, उनके लिए सामयिक चिकित्सा पत्र लिखे। इतना ही नहीं, उन्होंने यहां के म्यूजिक क्लब में वायलिन बजाया, लघु गीत लिखे और प्रकृतिवादी होने के नाते उन्होंने कई शोध भी किए, जिसमें कोयल के घोंसले बनाने की आदतों और पक्षियों के प्रवास पर उनके अवलोकन बाद में बहुत महत्वपूर्ण साबित हुए।

चेचक के टीके की खोज किसने की

चेचक के टीके की खोज किसने की

१७वीं शताब्दी में चेचक पूरी दुनिया में व्यापक रूप से फैलने लगा। कभी-कभी यह महामारी का रूप ले लेता, जिससे मरने वालों की संख्या और बढ़ जाती। उस समय इस भयानक बीमारी से बचने के लिए जिस प्राचीन पद्धति का प्रयोग किया जाता था, उसे कहा जाता था- वेरिओलेशन।

इस प्रक्रिया में एक स्वस्थ व्यक्ति को स्वेच्छा से चेचक से संक्रमित व्यक्ति के शरीर से निकाले गए ‘मवाद’ का इंजेक्शन लगाया गया। प्रारंभ में स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में चेचक के लक्षण कुछ समय के लिए दिखाई देते हैं, लेकिन कुछ समय बाद उसमें इस रोग के प्रति प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो जाती है।

हालाँकि, रोकथाम के इस तरीके का दोष यह था कि अधिकांश ‘मवाद’ वाले लोग चेचक से पूरी तरह से संक्रमित हो जाते थे और हल्के लक्षणों तक सीमित हुए बिना ही उनकी मृत्यु हो जाती थी। उस समय चेचक से बचाव के इस तरीके का चीन और भारत में खूब इस्तेमाल किया जाता था।

लंदन से कई साल बाद अपने गांव लौटे जेनर को अपने गांव में चेचक के कई मरीज मिले। इस बीमारी की भयावहता को देखकर उन्हें वह बात याद आ गई जो ग्वालिन ने कई साल पहले कही थी जिसमें उन्होंने कहा था कि जो भी गाय को ठंडक देता है उसे चेचक नहीं होता है। उन्होंने गांव के अन्य लोगों से भी इस कथन की पुष्टि करने के लिए कहा, तब पता चला कि उन सभी का एक ही विश्वास है।

पहले तो एडवर्ड जेनर ने इस पर ध्यान नहीं दिया, लेकिन इस बार वह इस तथ्य से बहुत प्रभावित हुए और उन्होंने इसका परीक्षण करने का फैसला किया।

14 मई, 1796 को, उन्होंने अपनी उंगलियों में घाव से ‘मवाद’ लेकर, सारा नेल्मस, जेम्स फिप्स (जिसे कभी चेचक नहीं था) नाम के एक 8 वर्षीय लड़के का टीकाकरण किया, एक गुलिन जिसे गाय का शिकार किया गया था। कुछ दिन पहले। डाल दिया है। इस टीकाकरण के कारण अगले 9 दिनों तक जेम्स फिप्स थोड़े बीमार रहे लेकिन 10वें दिन वे फिर से ठीक हो गए।

1 जुलाई को जेनर ने फिर से बच्चे को टीका लगाया, लेकिन इस बार चेचक के घाव से मवाद निकला। इससे बच्चा बीमार नहीं हुआ और उसमें चेचक के कोई लक्षण नहीं दिखे! इससे जेनर को यह विश्वास हो गया कि गाय की रूसी के कारण लड़का चेचक से प्रतिरक्षित था।

चेचक के टीके की खोज किसने की

आज आपने क्या सीखा?

इस प्रकार चेचक के टीके की खोज किसने की। चेचक से बचाव के लिए दुनिया भर में टीके लगाए गए। एडवर्ड जेनर विश्व प्रसिद्ध आविष्कारक बने। ऐसा कहा जाता है कि हॉलैंड और स्विटजरलैंड के पादरियों ने लोगों से अपने धार्मिक उपदेशों में टीका लगवाने का आग्रह किया। रूस में, टीकाकरण करने वाले पहले बच्चे को सार्वजनिक खर्च पर शिक्षित करने का प्रस्ताव रखा गया और उसका नाम वैक्सीनॉफ रखा गया।

जेनर एक ऐसे महान व्यक्ति थे जिन्होंने अपना पूरा जीवन चेचक के खिलाफ लड़ाई में समर्पित कर दिया। उनके द्वारा खोजे गए वैक्सीन का ही नतीजा है कि आज दुनिया के तमाम देशों को चेचक जैसी भयानक बीमारी से निजात मिल गई है। दरअसल, दुनिया में चेचक का खात्मा कर दिया गया है।

एक लोक सेवक एडवर्ड जेनर का 1823 में 73 वर्ष की आयु में निधन हो गया। आज वह हमारे बीच नहीं है, लेकिन उनके द्वारा दी गई चेचक का टीका हमेशा मानव जाति का कल्याण करेगा।

Manshu Sinha

Manshu Sinha

Hello friends, Review Hindi is a News and Review site that Reviews all things like movies, tech products in Hindi. Manshu Sinha is the Founder of this Site, who is a professional Hindi blogger, content creator, digital marketer and graphic designer.

Articles: 280

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!