Homeखोज और आविष्कारडीजल इंजन का आविष्कार किसने किया 2022

डीजल इंजन का आविष्कार किसने किया 2022

नमस्कार दोस्तों स्वागत हैं आपका हमारे इस नए लेख में आज हम आपको बताएंगे कि आखिर डीजल इंजन का आविष्कार किसने किया दोस्तों अब इंजन के बारे में तो आप सभी जानते ही हो यह नहीं जानते हैं कि डीजल इंजन का आविष्कार किसने किया आज यह लेख इसीलिए लिए है कि आपको डीजल इंजन का आविष्कार किसने किया इसके बारे में बताया जाए।

दोस्तों आज के समय को गति का समय कहना सही होगा, क्योंकि सड़कों पर दौड़ती ट्रेनों को देखकर ऐसा लगता है कि आज का युग गति का युग है और ट्रेनों में लगे इंजनों के कारण ये ट्रेनें दौड़ती नजर आती हैं। अगर ट्रेनों लप छोड़ दें तो आपके पास एक वाहन जरूर होगा और इसमें या तो पेट्रोल इंजन होगा या फिर डीजल या गैस इंजन।

ऐसे में आपके पास भी इंजन से जुड़ी कुछ जानकारी होनी चाहिए, लेकिन क्या आप जानते हैं कि डीजल इंजन का आविष्कार किसने किया था? इंजन या मोटर एक मशीन या उपकरण है जो किसी भी प्रकार की ऊर्जा को यांत्रिक ऊर्जा में परिवर्तित करता है। इंजन की इस यांत्रिक ऊर्जा का उपयोग कार्य करने के लिए किया जाता है। इंजन रासायनिक ऊर्जा, विद्युत ऊर्जा, गतिज ऊर्जा को यांत्रिक ऊर्जा में बदलने का काम करता है। चालिए जानते हैं डीजल इंजन का आविष्कार किसने किया।

डीजल इंजन क्या है

जैसा कि नाम से पता चलता है। इस प्रकार के इंजन में डीजल का उपयोग ईंधन के रूप में किया जाता है। यह एक प्रकार का आंतरिक दहन इंजन है और इसे आमतौर पर कम्प्रेशन इग्निशन इंजन भी कहा जाता है क्योंकि यह इंजन सिलेंडर में ईंधन छिड़क कर शुद्ध हवा को जलाता है।

इस प्रकार के इंजन में एक मोटे तेल का उपयोग ईंधन के रूप में किया जाता है। जिसे आविष्कारक के नाम पर डीजल नाम दिया गया है। इस तेल पर चलने वाले इंजनों को अक्सर डीजल इंजन कहा जाता है। इस इंजन में किसी भी कार्बोरेटर का प्रयोग नहीं किया जाता है और न ही बैटरी की सहायता से चिंगारी देकर ईंधन प्रज्वलित होता है। इसमें कुछ बातें निम्नलिखित हैं:-

  • इसमें ईंधन को जलाने के लिए इंजन सिलेंडर में संपीड़ित शुद्ध हवा के उच्च तापमान का ही उपयोग किया जाता है।
  • इंजन सिलेंडर में जहां हवा बेहद गर्म रहती है। ईंधन सीधे इंजेक्ट किया जाता है।

डीजल इंजन का आविष्कार किसने किया

डीजल इंजन का आविष्कार जर्मनी के महान वैज्ञानिक Rudolf Diesel (रुडॉल्फ डीजल) ने 1897 ई. में किया था। उन्हीं के नाम पर इस इंजन का नाम डीजल रखा गया। वैसे भी डीजल की कीमत पेट्रोल तेल से कम होती है, इसके अलावा डीजल इंजन इतना शक्तिशाली होता है कि इसका इस्तेमाल ट्रेन, बस, ट्रैक्टर, ट्रक आदि भारी वाहनों को चलाने के लिए किया जाता है। हालांकि सड़कों पर चलने वाले मोटर वाहनों में पेट्रोल के इंजन होते हैं। लेकिन डीजल इंजनों की भी कोई कमी नहीं है।

जब रूडोल्फ डीजल एक छात्र थे, उन्होंने अपनी पाठ्यपुस्तक में पढ़ा कि ऊष्मा इंजनों में ऊर्जा का केवल दस प्रतिशत ही काम में परिवर्तित किया जा सकता है। यह पढ़कर वह हैरान रह गया। इस तथ्य को पढ़ने के बाद उन्होंने तय कर लिया था कि वह एक ऐसा इंजन बनाएंगे जो देखने में किफायती होगा। उन्होंने अपनी कल्पना को आकार देकर डीजल इंजन का आविष्कार किया

डीजल इंजन पेट्रोल इंजन से काफी अलग होता है क्योंकि पेट्रोल इंजन डीजल इंजन से हल्का होता है और भारी वाहनों में इनका इस्तेमाल नहीं किया जाता है। डीजल इंजन में इस्तेमाल होने वाले ईंधन को लोग डीजल के नाम से पुकारते हैं। यह अजीब संयोग कहा जाएगा कि डीजल इंजन का आविष्कार करने वाले का नाम भी डीजल था और इसमें इस्तेमाल होने वाले ईंधन को डीजल भी कहा जाता है।

1902 के बाद उन्होंने अपने इंजन के अधिकार बेच दिए। केवल अमेरिका से उन्हें उस इंजन के लिए दस लाख डॉलर मिले। उसके बाद उनके द्वारा आविष्कृत डीजल इंजन जर्मनी, अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस आदि में बनने लगे।

डीजल इंजन के आविष्कार का इतिहास

रुडोल्फ डीजल का छोटी उम्र में ही जिज्ञासु दिमाग था। महज 14 साल की उम्र में उन्होंने अपने माता-पिता को एक पत्र लिखकर सूचित किया कि वह एक इंजीनियर बनना चाहते हैं। कुछ अलग स्कूलों में भाग लेने के बाद, डीजल को म्यूनिख में रॉयल बवेरियन पॉलिटेक्निक से योग्यता छात्रवृत्ति मिली।

म्यूनिख में डीजल के प्रोफेसरों में से एक कार्ल वॉन लिंडे ने डीजल को बर्फ और प्रशीतन संयंत्र में उनकी सहायता करने की अनुमति दी। एक साल बाद, डीजल संयंत्र के निदेशक बन गए और कॉर्पोरेट अनुसंधान के प्रबंधन में मदद की। इस दौरान उन्होंने थर्मल और ईंधन दक्षता पर शोध किया। डीजल ने एक आंतरिक दहन इंजन विकसित करने का इरादा किया और कई वर्षों तक इस विचार पर काम किया, जिससे 1893 में एक प्रोटोटाइप और 1897 में पहला डीजल इंजन उत्पादन मॉडल बना।

जबकि उन्हें “डीजल इंजन के आविष्कारक” के रूप में श्रेय दिया जाता है, इतिहास पर एक नज़र डालने से पता चलता है कि डीजल को कई स्रोतों से आलोचना मिली कि क्या उन्होंने कुछ नया बनाया है। ऐसे ही एक आलोचक जर्मन उद्यमी एमिल कैपिटाइन थे, जिन्होंने दावा किया था कि उन्होंने डीजल के समान इंजन बनाया है। वह डीजल के खिलाफ पेटेंट मुकदमा हार गया।

इंग्लैंड के रिचर्ड हॉर्नस्बी एंड सन्स ने 1890 के दशक में डीजल को अपने इंजन के लिए पेटेंट प्राप्त करने से पहले “भारी-तेल” इंजन का पेटेंट कराया था। यह दिखाया गया था कि जब इंजन के संपीड़न अनुपात की बात आती है तो डीजल डिजाइन अलग थे। उन्होंने उच्च संपीड़न का इस्तेमाल किया, जबकि हॉर्नस्बी एंड संस ने प्री-चेंबर में ईंधन का छिड़काव किया। डीजल डिजाइन अधिक कुशल होने के कारण समाप्त हो गया क्योंकि यह अधिक अनुकूलनीय था और इसे शुरू करने के लिए बाहरी गर्मी की आवश्यकता नहीं थी।

डीजल इंजन की उच्च दक्षता और सादगी कुछ ऐसी थी जिसने इसे तुरंत सफल बना दिया। 1898 तक डीजल करोड़पति बन चुका था। दुर्भाग्य से, वह बहुत लंबे समय तक अपनी उपलब्धियों या धन का आनंद लेने में असमर्थ रहा। 1913 में, डीजल लंदन में कंसोलिडेटेड डीजल मैन्युफैक्चरिंग कंपनी के साथ बैठक के लिए एक जहाज पर चढ़ा। हालांकि, उन्हें फिर कभी जीवित नहीं देखा गया था।

सुबह उसका केबिन खाली था, और उसकी टोपी और कोट जहाज की एक रेलिंग के पास पाए गए। यह मान लिया गया था कि डीजल पानी में कूद गया था – वित्तीय समस्याओं से प्रेरित। उसने अपनी पत्नी को अगले सप्ताह तक इसे न खोलने के निर्देश के साथ एक बैग दिया। इसमें नकद और वित्तीय विवरण शामिल थे, जो दर्शाता है कि परिवार किस गहरे कर्ज में था। जबकि डीजल की मौत को आत्महत्या करार दिया गया था, अफवाहें उठीं कि उसकी हत्या कर दी गई थी।

आज आपने क्या जाना?

तो दोस्तों आज के इस लेख में हमने आपको बताया कि आखिर डीजल इंजन का आविष्कार किसने किया? दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी डीजल इंजन का आविष्कार किसने किया? अच्छी लगती है तो कृपया इसे अन्य लोगों तक भी शेयर करें।

Manshu Sinhahttp:////reviewhindi.in
Hello friends! Manshu Sinha is a professional blogger and founder and admin of Review Hindi.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -