कम्प्यूटर वायरस का आविष्कार किसने किया था 2022

नमस्कार दोस्तों स्वागत हैं आपका हमारे इस नए लेख में आज हम आपको बताएंगे कि आखिर कम्प्यूटर वायरस का आविष्कार किसने किया था दोस्तों अगर आप एक कंप्युटर यूजर हैं तो आपके लिए वायरस के बारे में जानना बहुत ही आवश्यक है इसलिए अगर आप जानना चाहते है कि कम्प्यूटर वायरस का आविष्कार किसने किया था तो कृपया यह लेख पूरा पढ़ें।

कंप्यूटर वायरस हमारे कंप्यूटर में मौजूद डेटा को नष्ट कर देता है या हमारे डेटा को नुकसान पहुंचाता है या हमारे कंप्यूटर को धीमा कर देता है जिससे हमारा काम ठीक से नहीं हो पाता या हमारे कंप्यूटर प्रोग्राम में कोई अन्य समस्या आ जाती है।

अगर ऐसा है, तो हम कह सकते हैं कि वायरस का काम सिर्फ हमारे कंप्यूटर या हमारे काम को नुकसान पहुंचाना है, तो आपके लिए इसके बारे में जानना बहुत जरूरी है। हम आपको इस पोस्ट में बताएंगे कि कंप्यूटर वायरस क्या है। और कम्प्यूटर वायरस का आविष्कार किसने किया था, जब कंप्यूटर शुरू में बनाया गया था, तब इसमें कोई वायरस नहीं था।

लेकिन वायरस का आविष्कार किया गया था और तब से यह आज दुनिया में एक बड़ी समस्या बन गया है और इससे छुटकारा पाने के कई तरीके हैं। तरह-तरह के एंटीवायरस भी बनाए जा रहे हैं, कंप्यूटर वायरस भी कई तरह के होते हैं, इसलिए नीचे हम आपको कम्प्यूटर वायरस का आविष्कार किसने किया था इसके बारे में बता रहे हैं।

कंप्यूटर वायरस क्या है

जब आप किसी भी प्रकार की जानकारी के बारे में पढ़ रहे होते हैं तो सबसे पहले आपके लिए उस जानकारी के बारे में जानना बहुत जरूरी है कि हम जो जानकारी पढ़ रहे हैं वह किसके बारे में है और वह चीज क्या है तो हम आपको सबसे पहले बताएंगे एक कंप्यूटर वायरस क्या है।

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया, कंप्यूटर वायरस एक प्रकार का इलेक्ट्रॉनिक कोड होता है। कंप्यूटर में वायरस एक कीड़ा या जीवाणु है जो कंप्यूटर को नुकसान के अलावा कुछ नहीं करता है और यह हमारे कंप्यूटर को जल्द से जल्द नष्ट करने के बारे में सोचता है, वही अगर इसे नियंत्रित नहीं किया जाता है तो यह बहुत जल्द हमारे कंप्यूटर को भी नष्ट कर देता है।

और क्रेडिट कार्ड का विवरण डेबिट कार्ड का विवरण चुराता है। कंप्यूटर वायरस सीधे आपके सॉफ्टवेयर पर हमला करते हैं और कभी-कभी ये वायरस हार्डवेयर को भी नुकसान पहुंचाते हैं और इस जीवाणु को वायरस भी कहा जाता है। कंप्यूटर वायरस कई प्रकार के होते हैं जिनके बारे में हम आपको नीचे बताएंगे।

कम्प्यूटर वायरस का आविष्कार किसने किया था

कम्प्यूटर वायरस का आविष्कार किसने किया था

विश्व में सबसे पहले कंप्यूटर वायरस का आविष्कार किसने किया था जब कंप्यूटर वायरस पेश किए गए थे, तो पहला कंप्यूटर वायरस 1949 में बनाया गया था, पहली बार गणितज्ञ जॉन वॉन न्यूमैन ने एक सेल्फ-रेप्लिकेटिंग प्रोग्राम बनाया, जो कंप्यूटर के अंदर अपने आप बढ़ता है, इसे दुनिया का पहला वायरस माना जाता है।

फिर 1970 में, बॉब थॉमस ने इस सेल्फ रेप्लिकेटिंग प्रोग्राम का उपयोग करके क्रीपर वायरस बनाया और वह यह संदेश दिखाते थे कि मैं क्रीपर कैच मी इफ यू कैन हूं और इस संदेश को हटाने के लिए 1982 में रिचर्ड स्केरेंटा ने रीपर प्रोग्राम बनाया था, जिन्होंने अध्ययन किया था नौवीं कक्षा ने एल्क क्लोनर वायरस बनाया, जिसे उसने अपने दोस्तों के साथ मजाक करने के लिए बनाया था। चला गया। रिचर्ड स्क्रेंटा के किसी मित्र ने जब भी इसे 85 बार खोला, तो यह वायरस सक्रिय हो जाता था।

कम्प्यूटर वायरस का आविष्कार किसने किया था

कंप्यूटर वायरस के इतिहास

सबसे पहले 1949 ई. में ‘सेल्फ-एप्लीकेशन प्रोग्राम’ यानी अपना खुद का सिम्युलेशन बनाने का प्रोग्राम विकसित किया गया। 1981 ई. में, Apple वायरस-Apple-1, Apple-2, Apple-3 विकसित किए गए। ये पहले कंप्यूटर वायरस थे। ये वायरस ऑपरेटिंग सिस्टम में मौजूद थे। इन वायरस का प्रसार टेक्सास ए एंड एम द्वारा पायरेटेड कंप्यूटरों के माध्यम से किया गया था।

1983 ई. में ‘बसित’ और ‘अमजद’ नाम के दो विषाणु प्रकाश में आए, जिससे भारी तबाही हुई। बाद में पता चला कि वो खतरनाक वायरस

आविष्कार पाकिस्तान के दो युवकों ने किया था। वे दोनों भाई थे। पांच साल बाद यानी 1988 ई. में ‘जेरूसलम’ नाम के एक वायरस का प्रकोप हुआ, वह वायरस शुक्रवार 13 तारीख को अपना काम शुरू कर देता है और इस तारीख को किए गए सभी कार्यक्रमों को खत्म कर देता है।

1991 ई. में प्रथम बहुरूपी विषाणु ‘टकीला’ का प्रभाव फैलने लगा। यह वायरस स्कैनर की पकड़ में नहीं आ सका, क्योंकि यह लगातार अपना रूप बदल रहा था। अगले साल 1992 ई. में माइकल एंजेलो नाम के एक वायरस ने तबाही मचाना शुरू कर दिया। इस वायरस ने लगभग पच्चीस से पच्चीस हजार कंप्यूटरों को अपने प्रभाव में ले लिया था।

उसके बाद सबसे तेजी से फैलने वाला कंप्यूटर वायरस ‘वर्ड कॉन्सेप्ट’ साल 1995 में सामने आया। 1998 ई. में चेरनोबिल वायरस ‘स्ट्रेंजबू’ जावा फाइल को संक्रमित करने वाला पहला वायरस बना। इस वायरस के इस्तेमाल से न केवल फाइल नष्ट हो गई, बल्कि कंप्यूटर की चिप भी नष्ट हो गई। यह वायरस बहुत विनाशकारी था।

अगले साल 1999 ई. में कंप्यूटर नेटवर्क में W-97M नाम के वायरस ‘मेलिसा’ का आविष्कार हुआ। ई-मेल द्वारा इस वायरस का उपयोग करके कंप्यूटर के सभी हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर को नष्ट कर दिया गया था। यह वायरस अब तक जितने भी वायरस का आविष्कार हुआ है उससे कहीं ज्यादा तेजी से फैलता था। इसके परिणाम विनाशकारी थे। इसने लगभग एक लाख कंप्यूटरों को नष्ट कर दिया।

फिर साल 2000 ई. में ‘लव बग’ नाम के वायरस का अविष्कार हुआ। यह वायरस ‘आई लव यू’ वायरस के नाम से भी मशहूर हुआ। इस वायरस ने ई-मेल के जरिए बड़ी कंपनियों के कंप्यूटर सर्वर को निष्क्रिय कर दिया, इतना ही नहीं इसने पेंटागन और ब्रिटिश संसद में भी घुसपैठ की। इस वायरस के आने से पूरी दुनिया को करीब पांच अरब डॉलर का नुकसान हुआ है। इसी साल एक और विनाशकारी वायरस का आविष्कार हुआ, जिसका नाम ‘किलर रिज्यूमे’ रखा गया।

2001 ई. में ई-मेल वायरस का आविष्कार हुआ, जो रूसी टेनिस स्टार ‘अन्ना कोर्निकोवा’ के नाम से प्रसिद्ध हुआ। इस वायरस ने भी भारी मात्रा में नुकसान पहुंचाया है। इसी साल दुनिया के पहले बेहद खतरनाक और ताकतवर वायरस का अविष्कार हुआ, जिसका नाम ‘W32.com Winx’ रखा गया। इस वायरस ने सीधे पर्सनल कंप्यूटर या उसके मुख्य ऑपरेटिंग सिस्टम पर हमला किया।

2002 ई. में कोड रेड नाम का एक वायरस सामने आया। इस वायरस ने अमेरिका में लाखों कंप्यूटरों को नष्ट कर दिया।

साल 2005 में नए और पुराने दोनों तरह के वायरस ने इंटरनेट की दुनिया में ऐसी तबाही मचाई कि हर कोई दंग रह गया. पुराने वायरस तेजी से अधिक से अधिक कंप्यूटरों को नष्ट कर देते हैं, लेकिन नए वायरस का उपयोग किसी को आर्थिक रूप से नुकसान पहुंचाने के लिए किया जाता है। इस साल ऑनलाइन कारोबार करने वाली कंपनियों में पेपाल को इन नए वायरस से सबसे बड़ा झटका लगा है। उन्हें कई वित्तीय घोटालों का सामना करना पड़ा था।

अमेरिका, इंटरनेट पर सबसे ज्यादा समस्या पैदा करने वाले वायरस। कोरिया और चीन में छोड़ दिया गया। इन वायरस के जरिए एफ.बी.आई. या CIA कुछ विवादास्पद अभिनेत्रियों के K नोटिस और तस्वीरों की मदद से कंप्यूटर और नेटवर्क पर हमला किया जाता है। इन वायरसों में सोबर परिवार का ‘सोबर जेड’ नाम का वायरस बेहद खतरनाक है।

आंकड़ों के अनुसार 2005 ई. के अंत तक इंटरनेट पर वायरस का खतरा अड़तालीस प्रतिशत बढ़ गया था। इस साल तक सोलह हजार पांच सौ नए वायरस ऑनलाइन आ चुके थे।

उपरोक्त वायरसों के अलावा, कई वायरस जैसे eBay, Amazon, Bin Laden, Zafidi, Netskypy, Cyber ​​Z, आदि हजारों की संख्या में आए, जिनका आविष्कार भ्रष्ट लोगों ने किया था, जो कंप्यूटर पर हमला करते रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे। समय – समय पर।

कम्प्यूटर वायरस का आविष्कार किसने किया था

कंप्यूटर वायरस के प्रकार

  • रेजिडेंट वायरस – कंप्यूटर की रैम पर प्रभाव डालता है, इस कारण वायरस सिस्टम को अपडेट करने या कंप्यूटर में डेटा को शूट करने या कॉपी और पेस्ट करने में समस्या पैदा करता है।
  • ओवरराइट वायरस- यह एक वायरस से संक्रमित फ़ाइल है, जो फ़ाइल के मूल डेटा को नष्ट कर देती है।
  • Direct Action Virus- अगर यह साल आपके कंप्यूटर में आता है तो इस वायरस के कारण कंप्यूटर में मौजूद फाइल फोल्डर डिलीट होने लगते हैं।
  • File Infectors – यह वायरस बहुत ही खतरनाक वायरस है, इस वायरस को खतरनाक इसलिए माना जाता है क्योंकि यह चल रही फाइल पर प्रभाव डालता है और उसे नष्ट कर देता है।
  • बूट वायरस – यह वायरस फ्लॉपी डिस्क और हार्ड ड्राइव को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाता है, इससे इन दोनों चीजों को चलाना बहुत मुश्किल हो जाता है, इन्हें ठीक से चलने नहीं देता है।
  • Directory Virus – अगर हम इस वायरस के बारे में बात करें तो यह एक बहुत ही विपरीत प्रकार का वायरस है और यह एक अजीब वायरस भी है क्योंकि यह फाइलों को उत्तल करता है, उन फाइलों का स्थान बदल देता है और उन्हें किसी अन्य फाइल में डाल देता है।
  • मैक्रो वायरस – इस वायरस का प्रभाव ज्यादातर विशेष कार्यक्रमों और अनुप्रयोगों पर होता है, यह उनकी गति को परेशान करता है, उन्हें तेज गति से नहीं चलने देता, उनकी गति को धीमा कर देता है।
  • Browser Highjack Virus – आज के समय में जो वायरस फैल रहा है वो वही वायरस है. और इस वेबसाइट के अधिकांश। यह गेम हमारे कंप्यूटर सिस्टम में .file आदि के माध्यम से प्रवेश करता है और यह सभी प्रकार की फाइलों को धीमा कर देता है, यह उनकी गति को नियंत्रित करता है और यह धीरे-धीरे हमारी फाइलों को भी नष्ट करना शुरू कर देता है।

आज आपने क्या जाना?

तो दोस्तों आज के इस लेख में हमने आपको बताया कि आखिर कम्प्यूटर वायरस का आविष्कार किसने किया था अगर आपको द्वारा दी गई यह जानकारी कम्प्यूटर वायरस का आविष्कार किसने किया था पसंद आती है तो कृपया इसे अन्य लोगों तक भी जरूर शेयर करें।

Manshu Sinha

Manshu Sinha

Hello friends, Review Hindi is a News and Review site that Reviews all things like movies, tech products in Hindi. Manshu Sinha is the Founder of this Site, who is a professional Hindi blogger, content creator, digital marketer and graphic designer.

Articles: 298

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *