Xerox Machine Kya Hai और कैसे काम करता है? 2022

क्या आप जानते हैं यह Xerox Machine Kya Hai मुझे यकीन है कि आपने कभी न कभी ज़ेरॉक्स मशीन का इस्तेमाल किया होगा। शायद ही कोई होगा जिसने आज तक जेरोक्स मशीन का इस्तेमाल नहीं किया होगा। इसे आम भाषा में फोटोकॉपी मशीन भी कहते हैं। जिस मशीन से किसी भी दस्तावेज़ का सटीक प्रिंट निकाला जाता है, उसे ज़ेरॉक्स मशीन कहा जाता है।

बिजनेस सेक्टर हो, एजुकेशन सेक्टर हो या सरकारी सेक्टर, जेरोक्स मशीन मशीन का इस्तेमाल हर जगह होता है। जेरोक्स मशीन यानि फोटोकॉपी मशीन की मदद से आप किसी भी संख्या में दस्तावेजों की कई प्रतियां चंद सेकेंड में आसानी से निकाल सकते हैं।

इसलिए आज मैंने सोचा कि क्यों न आप लोगों को Xerox Machine Kya Hai के बारे में पूरी जानकारी प्रदान की जाए, जिससे आप जान सकें कि यह कैसे काम करता है, इसके क्या फायदे हैं और इसके प्रकार क्या हैं? तो बिना देर किए चलिए शुरू करते हैं।

Xerox Machine Kya Hai

जेरोक्स मशीन एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जो किसी भी दस्तावेज की कॉपी निकालने का काम करती है। ज़ेरॉक्स शब्द की उत्पत्ति ज़ेरोग्राफी से हुई है, जो एक ऐसी तकनीक है जिसका उपयोग छवियों और दस्तावेज़ों की नकल करने के लिए किया जाता है।

इस मशीन से आप कागज पर लिखे गए चित्रों या शब्दों की सटीक प्रतियां बना सकते हैं। यह मशीन दिखने में बहुत बड़ी है लेकिन यह सभी काम बहुत ही आसानी से और जल्दी से कर लेती है, क्योंकि इसके अंदर काफी सरल है।
जेरोक्स मशीन एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है इसलिए यह बिजली से ही चलती है। आपने देखा होगा कि जब भी आप फोटोकॉपी की दुकान पर जाते हैं तो अपने दस्तावेज देने के बाद सामने वाला व्यक्ति जेरोक्स मशीन पर कुछ बटन दबाता है और आपके दस्तावेजों की सटीक प्रतियां बाहर आती हैं, यह सब काम इतनी तेजी से होता है कि आप कर सकते हैं’ कल्पना भी नहीं।

जेरोक्स मशीन का आविष्कार किसने किया था (Xerox Machine Kya Hai)

22 अक्टूबर, 1938 को “चेस्टर कार्लसन” द्वारा आविष्कार की गई ज़ेरॉक्स मशीन फोटोकॉपी मशीन।

जेरोक्स मशीन का इतिहास (Xerox Machine Kya Hai)

चेस्टर कार्लसन, जो एक अमेरिकी पेटेंट वकील थे, ने 1930 में जेरोग्राफी का आविष्कार किया। उस समय जनरल इलेक्ट्रिक, आईबीएम, कोडक और आरसीए जैसी बड़ी कंपनियों ने कार्लसन को मना कर दिया, बाद में बैटल मेमोरियल इंस्टीट्यूट ने उनके शोध में निवेश किया और फिर उन्होंने इसे नाम के तहत लाइसेंस दिया। हैलॉइड नाम की कंपनी का।

बैटल और हैलॉइड दोनों ने इस शोध में सहयोग किया और 1948 में इस तकनीक का प्रदर्शन किया। हैलॉइड ने सबसे पहले इस शब्द को ज़ेरोग्राफी नाम दिया, जिसे ग्रीक में “ड्राई” और “राइटिंग” कहा जाता है। हैलॉइड, जिसे 1910 में स्थापित किया गया था, को बाद में 1958 में हैलॉइड ज़ेरॉक्स का नाम दिया गया और फिर बाद में 1961 में ज़ेरॉक्स कॉर्पोरेशन के रूप में मान्यता दी गई।

जेरोक्स मशीन कैसे काम करती है (Xerox Machine Kya Hai)

किसी भी दस्तावेज़ को कॉपी करना बहुत आसान है। मूल रूप से जेरोग्राफी की तकनीक का आधार इलेक्ट्रोस्टैटिक चार्ज है। असल में होता यह है कि मशीन के ऊपर एक शीशा बना होता है, जिस पर कोई भी दस्तावेज जिसे कॉपी करना होता है, रखा जाता है। तभी नीचे से एक लाइट आती है जो पूरे पेपर को स्कैन करती है और पेपर पर रिफ्लेक्ट करने के बाद उसके नीचे एक ड्रम होता है और उस पर चला जाता है।

अब ड्रम सिर्फ उन्हीं हिस्सों को स्कैन करता है जिनमें कुछ लिखा या बनाया जाता है। प्रकाश के साथ-साथ ड्रम भी नीचे से घूमने लगता है और कागज पर लिखे शब्द का पूरा पैटर्न ड्रम पर तैयार हो जाता है। अब मशीन में एक टोनर लगा दिया जाता है, इसमें टोनर पाउडर प्रिंट के लिए भरा जाता है।

इससे कागज पर लिखे शब्द ड्रम पर छप जाते थे। जब सादा कागज जेरोक्स मशीन में प्रवेश करता है, तो ड्रम की स्याही कागज पर चिपक जाती है। यहां गर्मी की मदद से स्याही को स्थायी रूप से कागज से चिपका दिया जाता है और उसके बाद प्रिंट होने के बाद बाहर आ जाता है। इस पूरी प्रक्रिया में कुछ ही सेकंड लगते हैं।

जेरोक्स मशीन का प्रकार (Xerox Machine Kya Hai)

आइए जानते हैं जेरोक्स मशीन के विभिन्न प्रकारों के बारे में।

एनालॉग जेरोक्स मशीन (Xerox Machine Kya Hai)

इस प्रकार की मशीन में सबसे पहले एक उच्च शक्ति वाले प्रकाश बल्ब को स्कैन किया जाता है और प्रकाश परावर्तन के माध्यम से ड्रम पर एक पैटर्न बनाने के लिए टोनर की मदद से कागज की छवि तैयार की जाती है।
इसके बाद ड्रम पर बने पैटर्न को कागज पर प्रिंट किया जाता है। इसके बाद इसे भारी गर्मी से स्थायी रूप से कागज पर चिपका दिया जाता है।

डिजिटल जेरोक्स मशीन

डिजिटल मशीनों में सेंसर का उपयोग किया जाता है जो आपके कागज की तस्वीर लेते हैं और जिसे आप स्टोर भी कर सकते हैं। इस प्रकार की मशीन में पहले दस्तावेज़ को स्कैन किया जाता है और उसके बाद उसका प्रिंट निकाल लिया जाता है।
इसमें फोटोकॉपी की ब्राइटनेस और आउटपुट के साइज को कंट्रोल किया जा सकता है। आजकल इस प्रकार की मशीन का बाजार में काफी उपयोग होने लगा है।

ज़ेरॉक्स मशीन के लाभ

आइए जानते हैं जेरोक्स मशीन के उन फायदों के बारे में जो इसे औरों से बेहतर बनाते हैं।

एकाधिक मुकाबला कर सकते हैं

जेरोक्स मशीन का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आप एक बार में एक से ज्यादा कॉपी निकाल सकते हैं। आप एक ही समय में मुद्रित दस्तावेज़ की जितनी चाहें उतनी प्रतियां निकाल सकते हैं।

लागत प्रभावी है

जेरोक्स मशीन से फोटोकॉपी का खर्चा भी कम आता है। आप 50 पैसे में कॉपी प्रिंट ले सकते हैं। कुछ फोटोकॉपी मशीनें एक कॉपी के लिए 1 रुपये तक चार्ज करती हैं। फिर भी, थोक में इसकी लागत कम होती है।

तेज गति

जेरोक्स मशीन से कॉपी करने में बहुत कम समय लगता है। बहुत तेजी से आपको अपने पेपर की फोटोकॉपी मिल जाती है। इसके अलावा इसके पेपर की क्वालिटी भी अच्छी होती है।

पर्यावरण के अनुकूल

जेरोक्स मशीन से कॉपी निकालने के लिए ज्यादा जगह की जरूरत नहीं होती और इसके अलावा यह मशीन पूरी तरह से पर्यावरण के अनुकूल है। इसमें कोई प्रदूषण नहीं है।

आज आपने क्या सीखा

जब Xerox Machine Kya Hai मशीन शुरू में आई तो किसी को यकीन नहीं था कि इसकी जरूरत पड़ेगी, लेकिन आज यह रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा बन गई है। आज हर जगह फोटोकॉपी की जरूरत है। ऐसी कोई जगह नहीं है जहां फोटोकॉपी की जरूरत न हो।

इसलिए जेरोक्स मशीन की जरूरत काफी बढ़ गई है। व्यक्ति की मृत्यु के बाद भी मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए मूल दस्तावेज की एक प्रति की आवश्यकता होती है। अब तक आप अच्छी तरह से समझ गए होंगे कि यह Xerox Machine Kya Hai (What Is Zerox Machine in Hindi) और यह कैसे काम करती है। जेरोक्स मशीन की आज के समय में सभी को कितनी आवश्यकता है और भविष्य में भी इसकी हमेशा सभी को आवश्यकता होगी।

Leave a Comment