Micromax का मालिक कौन है? इससे जुड़े जरूरी बातें

नमस्कार दोस्तों स्वागत हैं आपका हमारे इस नए लेख में आज हम आपको बताएंगे कि आखिर Micromax Kaha Ki Company Hai और Micromax का मालिक कौन है? दोस्तों अगर आप नहीं जानते हैं कि र Micromax का मालिक कौन है? तो कृपया यह लेख आखिर तक जरूर पढ़ें।

अगर हम keypad फोन की बात करें तो Micromax कंपनी को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है और Micromax ने भारत की जानी-मानी smartphone कंपनियों में भी खास जगह बनाई है। एक समय keypad फोन लगभग हर हाथ की खूबसूरती थे और उनमें से लगभग 40% keypad फोन से थे। keypad का नाम इसलिए भी जाना जाता है क्योंकि उन्होंने लोगों को कम कीमत में मोबाइल फोन दिलवाए थे, जिससे कम समय में ही कंपनी ने भारत समेत दुनिया के कई देशों में अपना बाजार बना लिया था।

Micromax कंपनी क्या है?

दोस्तों Micromax एक मोबाईल निर्माता कंपनी है जिसकी स्थापना सन 2000 में हुई थी यह एक समय पर भारत में सबसे ज्यादा विख्यात कंपनियों में से एक है। 2015 के आसपास Micromax के फोन का खूब इस्तेमाल हुआ, आपने भी अपने जीवन में Micromax फोन का इस्तेमाल किया होगा या बचपन में अपने माता-पिता के साथ देखा होगा।

Green Star

आज इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस बनाने वाली कई कंपनियां हैं जैसे Samsung, Apple, Realme, Xiaomi, Oppo आदि। लेकिन इन सभी कंपनियों में हमारे भारत देश की कंपनी बहुत कम है या आप कह सकते हैं कि 1-2 ही है। दुनिया की तमाम बड़ी कंपनियां भारत में अपना कारोबार करना चाहती हैं क्योंकि हमारा देश चीन के बाद आबादी के लिहाज से दूसरा सबसे बड़ा देश है और इतने बड़े बाजार में आने से कोई बड़ी कंपनी खुद को नहीं रोक सकती।

Green Star

Micromax गुड़गांव, हरियाणा, भारत में स्थित एक telecommunications कंपनी है। यह एक वायरलेस टेलीफोन हैंडसेट विक्रेता है। Micromax के देश भर में 23 घरेलू कार्यालय हैं और हांगकांग, संयुक्त राज्य अमेरिका, दुबई और अब नेपाल में अंतर्राष्ट्रीय कार्यालय हैं।

Micromax कहाँ कि कंपनी है? 

Green Star

जब Nokia और Samsung जैसी कंपनियों ने कीपैड फोन के क्षेत्र में भारत सहित विश्व बाजार में अपनी जगह बनाई थी, उस समय Micromax की नींव भारत के एक राज्य हरियाणा में रखी गई थी। वर्ष 29 मार्च 2000 में Micromax सॉफ्टवेयर के नाम से पंजीकृत कंपनी ने देखते ही देखते कीपैड फोन से स्मार्टफोन तक का सफर तय कर लिया है। हालांकि साल 2000 तक कंपनी सिर्फ सॉफ्टवेयर ही बनाती थी, लेकिन साल 2008 में उन्होंने कंपनी को Micromax इलेक्ट्रॉनिक्स के नाम से दोबारा रजिस्टर कराया और कीपैड फोन के साथ फिर से मार्केट में आ गए।

Green Star

Micromax कंपनी की गिनती आज दुनिया की बड़ी कंपनी में होती है, लेकिन यहां तक ​​पहुंचना कंपनी के लिए इतना आसान नहीं था। Micromax कंपनी ने साल 2000 में सॉफ्टवेयर बनाने का काम शुरू किया था, लेकिन उस समय सॉफ्टवेयर का बाजार सीमित था, जहां उन्हें उतना अच्छा बाजार नहीं मिल रहा था। जिसके बाद कंपनी ने मोबाइल फोन का रुख किया और जहां एक बड़ा बाजार उनका इंतजार कर रहा था।

Micromax की जानकारी

उस समय ग्रामीण क्षेत्र के ज्यादातर लोग बात करने के लिए पीसीओ में घंटों लाइन में खड़े रहते थे, कुछ के पास नोकिया, सैमसंग जैसे कीपैड फोन थे। ज्यादा महंगे फोन होने की वजह से आम आदमी तक पहुंचना आसान नहीं था, इसे देखते हुए कंपनी ने सबसे पहले 2008 में अपनी कंपनी का कीपैड फोन ‘Micromax X 817′ स्थापित किया, जिसके बैटरी बैकअप और डिजाइन पर काफी ध्यान दिया गया। जिसकी कीमत इतनी थी कि एक आम आदमी आराम से इस फोन को खरीद सकता था।

Green Star

Micromax के फोन भारत में बने थे, लेकिन Micromax के फोन को पूरी तरह से भारत में निर्मित नहीं कहा जा सकता, क्योंकि उस समय तक फोन के सभी हिस्से भारत में नहीं बन सकते थे। इसलिए बहुत से पुर्जे चीन से आयात किए जाते थे।

Green Star

Micromax कंपनी का मालिक कौन है

Micromax फोन कंपनी की स्थापना वर्ष 2000 में राहुल शर्मा (माइक्रोमैक्स मोबाइल के संस्थापक) द्वारा एक सॉफ्टवेयर कंपनी के रूप में की गई थी और वह कंपनी की स्थापना में अपने तीन साथियों – राजेश अग्रवाल, विकास कुमार, सुमित के साथ। लेकिन अब कंपनी के नुकसान के बाद सभी को-फाउंडर दूसरी कंपनियों में काम करते हैं। कंपनी की पूरी जिम्मेदारी राहुल शर्मा पर है।