विटामिन की खोज किसने की थी? विटामिन क्या है ? पूरी जानकारी

आज इस पोस्ट में हम विटामिन क्या है ? विटामिन की खोज किसने की थी? कि पूरी जानकारी जानेंगे। क्या आप भी जानना चाहते हैं कि विटामिन की खोज किसने की, तो हमारी इस पोस्ट को पढ़ते रहें। आप सभी जानते हैं कि विटामिन हमारे शरीर के लिए कितने महत्वपूर्ण हैं।

आज इस पोस्ट में हम विटामिन क्या है ? विटामिन की खोज किसने की थी? कि पूरी जानकारी जानेंगे। क्या आप भी जानना चाहते हैं कि विटामिन की खोज किसने की, तो हमारी इस पोस्ट को पढ़ते रहें। आप सभी जानते हैं कि विटामिन हमारे शरीर के लिए कितने महत्वपूर्ण हैं।

जब विटामिन की खोज नहीं हुई थी, उस समय लोगों को यह नहीं पता था कि विटामिन के क्या फायदे हैं और विटामिन कितने प्रकार के पाए जाते हैं। इसलिए आज हम यह पोस्ट लिख रहे हैं, इसमें आपको बताया जाएगा कि विटामिन की किसने खोजी थी।

विटामिन हमारे शरीर को बढ़ने और विकसित करने में मदद करते हैं। वे चयापचय, प्रतिरक्षा और पाचन जैसे कार्यों में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। शरीर की विटामिन की जरूरतों को पूरा करने का सबसे अच्छा तरीका संतुलित आहार खाना है, जिसमें कई तरह के खाद्य पदार्थ शामिल हैं। शरीर में विटामिन की कमी से तरह-तरह के रोग हो जाते हैं। यदि हम अकेले भोजन के माध्यम से इसकी आवश्यकताओं को पूरा नहीं कर पा रहे हैं, तो हमें पूरक आहार की आवश्यकता है।

विटामिन की खोज से पहले लोग यह नहीं जानते थे कि विटामिन हमारे शरीर के लिए कितने महत्वपूर्ण हैं। आप सभी जानते हैं कि शरीर के पोषण की पूर्ति के लिए विटामिन बहुत आवश्यक माने जाते हैं। अगर हमारे शरीर को उचित मात्रा में और सही समय पर उचित विटामिन नहीं मिले तो हम बीमारियों से ग्रस्त हो सकते हैं। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप यह भी जान लें कि विटामिन क्या है और विटामिन की खोज किसने की।

विटामिन क्या है ?

विटामिन हमारे आहार का हिस्सा हैं जिनकी सभी जीवों को कम मात्रा में आवश्यकता होती है। रासायनिक रूप से, ये कार्बनिक यौगिक हैं। इस यौगिक को एक विटामिन कहा जाता है जिसका शरीर पर्याप्त मात्रा में उत्पादन नहीं कर सकता है, लेकिन इसे भोजन के रूप में लेना चाहिए। तो अगर आपके भोजन में विटामिन की कमी है या पर्याप्त नहीं है, तो उस भोजन का सेवन करने का कोई मतलब नहीं है।

क्योंकि विटामिन सिर्फ एक ही प्रकार के नहीं होते हैं, वे कई प्रकार के होते हैं और ये सभी हमारे शरीर के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। रासायनिक रूप से, ये कार्बनिक यौगिक हैं। यौगिकों को विटामिन कहा जाता है कि शरीर अपने आप में पर्याप्त मात्रा में उत्पादन नहीं कर सकता है, लेकिन इसे भोजन के रूप में लिया जाना चाहिए और विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन सी, विटामिन डी, विटामिन ई आदि जैसे अलग-अलग नाम हैं।

विटामिन की खोज किसने की थी? 

विटामिन की खोज 1912 में कासिमिर फंक नामक एक बायोकेमिस्ट ने की थी। अपने एक प्रयोग के दौरान उन्होंने पाया कि कुछ ऐसे सूक्ष्म पोषक तत्व हैं जो हमारे शरीर को बीमारियों से बचाते हैं। शुरू में उन्हें लगा कि ये सभी सूक्ष्म पोषक तत्व अमीन समूह के हैं। इसी वजह से कासिमिर फंक ने इसे वाइटल एमाइंस नाम दिया। वाइटल एक अंग्रेजी शब्द है जिसका अर्थ है महत्वपूर्ण और अमाइन को कार्बनिक रसायन विज्ञान में एक कार्यात्मक समूह कहा जाता है। 

वाइटल अमीन्स नाम इसलिए दिया गया क्योंकि यह शरीर के लिए भी महत्वपूर्ण है और कासिमिर फंक ने इसे अमीन समूह से संबंधित माना। अब वाइटल ऐमीन्स का नाम छोटा करके विटामिन्स कहा जाने लगा। लेकिन कुछ समय बाद यह पुष्टि हो गई कि सभी विटामिन अमीन समूह के नहीं हैं, फिर “ई” को हटा दिया गया, अब इसे विटामिन या विटामिन कहा जाने लगा। कासिमिर फंक एक पोलिश जैव रसायनज्ञ थे।

उनका जन्म 23 फरवरी, 1884 को पोलैंड की राजधानी वारसॉ में हुआ था। उन्होंने स्विट्जरलैंड में बर्न विश्वविद्यालय, पेरिस में पादरी संस्थान और बर्लिन विश्वविद्यालय में शिक्षा प्राप्त की। 1915 में वे अमेरिका चले गए और वहां उन्होंने विभिन्न शोध पदों पर काम किया। कासिमिर फंक ने अपने जीवनकाल में विटामिन बी1, बी2, सी और डी की खोज की। 

उन्हें विटामिन की खोज और इसकी उपयोगिता साबित करने के कारण प्रसिद्धि मिली। इसके अलावा उन्होंने हार्मोन, मधुमेह और कैंसर पर भी शोध किया। 19 नवंबर 1967 को अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में उनका निधन हो गया।

‘विटामिन’शब्द का नाम कैसे पड़ा?

विटामिन शब्द 1912 में पोलिश बायोकेमिस्ट कासिमिर फंक द्वारा गढ़ा गया था। विटामिन शब्द दो शब्दों से बना है – वीटा + एमाइन। यहाँ ‘वीटा’ का अर्थ है जीवन और ‘अमीन’ शरीर में पाया जाने वाला एक यौगिक है।

विभिन्न विटामिनों कि खोज किसने की? 

विटामिनखोजकर्तावर्ष
Aएल्मर वी. मैकुलम और मार्गुराइट डेविस1912-1914
Bएल्मर वी. मैकुलम1915-1916
B1कैसिमिर फंक1912
B2डी.टी. स्मिथ और ई.जी. हेंड्रिक1926
B3 (नाइयासिन)काॅनरैड एलवेजम1937
B9 (फोलिक एसिड)लुसी विल्स1933
B6पाॅल जियोर्जी1934
Cए. होइस्ट और टी. फ्रेलिच1912
Dएडवर्ड मेलानबी1922
Eहर्बर्ट इवांस और कैथरीन बिशप1922
विभिन्न विटामिनों कि खोज किसने की ? 

विटामिन कितने प्रकार के होते है?

विटामिन दो प्रकार के होते हैं- (१) वसा में घुलनशील विटामिन (२) पानी में घुलनशील विटामिन

वसा में घुलनशील विटामिन: –

ये विटामिन शरीर में वसा में घुलनशील होते हैं। ये हमारे शरीर के वसा ग्लोब्यूल्स द्वारा अवशोषित होते हैं, जो छोटी आंत के लसीका तंत्र के माध्यम से सामान्य रक्त परिसंचरण में जाते हैं। इस प्रकार के विटामिन आमतौर पर भविष्य में उपयोग के लिए यकृत और वसायुक्त ऊतक में जमा हो जाते हैं।
ये वसा में घुलनशील विटामिन ए, डी, ई और के हैं।

पानी में घुलनशील विटामिन:-

वसा में घुलनशील विटामिन के विपरीत पानी में घुलनशील विटामिन हमारे शरीर में जमा नहीं होते हैं, जिसके कारण शरीर को आवश्यक पोषक तत्व प्राप्त करने के लिए उनकी निरंतर आपूर्ति की आवश्यकता होती है। एक बार जब आवश्यक पोषक तत्व पानी से अवशोषित हो जाते हैं, तो अतिरिक्त मात्रा शरीर से बाहर निकल जाती है।
ये पानी में घुलनशील विटामिन हैं- C, B1, B2, B3, B6, B9 और B12।

  • विटामिन ए: यह विटामिन आंखों के लिए बहुत जरूरी होता है। यह विटामिन शरीर के कई अंगों जैसे त्वचा, बाल, नाखून, ग्रंथियां, दांत, मसूड़े और हड्डियों के रखरखाव में मदद करता है। विटामिन ए ताजे फल, दूध, मांस, अंडे, मछली के तेल, गाजर, मक्खन और हरी सब्जियों में पाया जाता है।”
  • विटामिन बी: ​​यह शरीर को जीवन शक्ति देने का काम करता है। इस विटामिन की कमी से शरीर कई तरह की बीमारियों से घिर जाता है। विटामिन बी के कई विभाग होते हैं और सभी विभाग मिलकर विटामिन ‘बी’ कॉम्प्लेक्स कहलाते हैं। विटामिन बी कॉम्प्लेक्स के स्रोत टमाटर, हरी पत्तेदार सब्जियां, बादाम, अखरोट, अंगूर, दूध, ताजे मटर, दाल, सब्जी सब्जियां, आलू, चना, नारियल, पिस्ता, दही, पालक, गोभी, मछली, अंडे का सफेद भाग आदि है।
  • विटामिन सी: विटामिन सी को एस्कॉर्बिक एसिड के रूप में भी जाना जाता है। यह शरीर की कोशिकाओं को बांधता है। यह शरीर की रक्त वाहिकाओं या रक्त वाहिकाओं को मजबूत रखता है। विटामिन सी का सबसे अच्छा स्रोत संतरे, नींबू, अमरूद, कीवी और अन्य खट्टे फल हैं।
  • विटामिन डी: यह शरीर की हड्डियों के निर्माण और रखरखाव में मदद करता है। इसके साथ ही यह शरीर में कैल्शियम के स्तर को नियंत्रित करने का भी काम करता है। विटामिन डी का सबसे अच्छा स्रोत अंडे की जर्दी, मछली का तेल, दूध और मक्खन हैं। धूप सेंकने से भी विटामिन डी प्राप्त होता है।
  • विटामिन ई: विटामिन ई को टोकोफेरल के रूप में भी जाना जाता है। यह विटामिन शरीर में कई अंगों को सामान्य रूप में बनाए रखने का काम करता है। वहीं, कोशिका के अस्तित्व को बनाए रखते हुए उनके बाहरी आवरण या कोशिका झिल्ली को बनाए रखने का काम करता है। इसका सबसे अच्छा स्रोत वनस्पति तेल और कई अन्य खाद्य पदार्थ हैं।
  • विटामिन के: हमारे शरीर में खून का थक्का बनाने के लिए विटामिन के की जरूरत होती है। यदि रक्त का थक्का नहीं बनता है, तो चोट के कारण अत्यधिक रक्त प्रवाह होगा, जिससे व्यक्ति की मृत्यु भी हो सकती है। इसके अलावा हड्डियों को मजबूत रखने के लिए भी विटामिन K की जरूरत होती है। विटामिन K का सबसे अच्छा स्रोत विभिन्न प्रकार की पत्ता गोभी, हरी पत्तेदार सब्जियां, सूखे मेवे और मेवे आदि हैं।

13 विटामिनों का रासायनिक नाम?

  • विटामिन A – रेटिनोल
  • विटामिन B1 – थियामीन
  • विटामिन B2 – राइबोफ्लेविन
  • विटामिन B3 – नियासिन
  • विटामिन B5 – पैंटोथैनिक एसिड
  • विटामिन B6 – पाइरिडोक्सिन
  • विटामिन B7 – बायोटिन
  • विटामिन B9 – फोलिक एसिड
  • विटामिन 12 – कोबालमि
  • विटामिन C – एस्कॉर्बिक एसिड
  • विटामिन D – कैल्सिफैरोल
  • विटामिन E – टोकोफेरॉल
  • विटामिन K – फाइटोनडाइओन (Phytonadione)

विटामिन और उनके स्रोतों की खोज तिथियां

खोज का सालविटामिनमुख्य  स्रोत
1913विटामिन Aकॉड लिवर तेल
1910विटामिन B1चावल की भूसी
1920विटामिन Cसाइट्रस, सबसे ताजा खाद्य पदार्थ
1920विटामिन Dकॉड लिवर तेल
1920विटामिन B2मांस, डेयरी उत्पाद, अंडे
1922विटामिन Eगेहूं के बीज का तेल,अपरिष्कृत वनस्पति तेलों
1929विटामिन K1पत्तीदार सब्जियां
1931विटामिन B5मांस, साबुत अनाज,कई खाद्य पदार्थों में
1931विटामिन B7मांस, डेयरी उत्पाद, अंडे
1934विटामिन B6मांस, डेयरी उत्पाद
1936विटामिन B3मांस, अनाज
1941विटामिन B9पत्तीदार सब्जियां
1948विटामिन B12लिवर, अंडे, पशु उत्पादों
विटामिन और उनके स्रोतों की खोज तिथियां

विटामिन और उनकी कमी से होने वाले रोग

विटामिनकमी से होने वाले रोग
Aरतौंधी, संक्रमण का खतरा, जीरोफ्थैल्मिया, मोतियाबिंद, शुष्क त्वचा और काठिन्य
B1बेरी – बेरी 
B2स्किन का फटना, आँखों का लाल होना 
B3स्किन पर दाद  होना 
B5बालो का सफ़द होना , मंद्बुदी होना 
B6एनिमा और स्किन  रोग 
B7लकवा , बदन दर्द , बालो का गिरना 
B11एनीमिया, पेचिश रोग 
B12 एनीमिया, पांडुरंग रोग
स्कर्वी
Dरिकेट्स, ऑस्टियोमलेशिया
Eजन शक्ति का कम होना
Kखून का जमना 
विटामिन और उनकी कमी से होने वाले रोग

आज आपने क्या सीखा?

तो दोस्तों आज हमने इस पोस्ट में विटामिन क्या है और विटामिन की खोज किसने की थी? पूरी जानकारी दी है। इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप विटामिन से जुड़े कई रोचक तथ्य जान गए होंगे। विटामिन की कमी से कई प्रकार के रोग हो सकते हैं, इसलिए सभी विटामिनों को पर्याप्त मात्रा में लेना आवश्यक है। इस पोस्ट में दी गई जानकारी आपके परीक्षा में भी पूछी जा सकती है, इसलिए इन सभी बातों का ध्यान रखें। अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें।

Manshu Sinha

Manshu Sinha

Hello friends, Review Hindi is a News and Review site that Reviews all things like movies, tech products in Hindi. Manshu Sinha is the Founder of this Site, who is a professional Hindi blogger, content creator, digital marketer and graphic designer.

Articles: 280

2 Comments

  1. विटामिन की बहुत अच्छी जानकारी दी हैं इसमें सभी विटामिन के बारे में, अच्छे से बताया हैं keep writing

  2. विटामिन के बारे में अच्छे से बताया गया है

    बहुत अच्छा लगा इस विटामिन का विस्तार जानकर

    Thankyou so much sir

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!