टाइगर श्रॉफ कि फिल्म हुई फ्लॉप? Heropanti 2 Movie Review in hindi

टाइगर श्रॉफ कि फिल्म हुई फ्लॉप? Heropanti 2 Movie Review in hindi - Review Hindi
download -

Director: अहमद खान

Date Created: 2022-05-22 09:07

Editor's Rating:
2.9

Heropanti 2 Movie Review: ‘असली Heropanti लोगों से जीतने में नहीं, लोगों को जीतने में है’ Heropanti 2 का यह डायलॉग फिल्म के दूसरे ट्रेलर लॉन्च के बाद मशहूर हो गया। दरअसल टाइगर की डेब्यू फिल्म हीरोपंती के बाद जिस तरह से इसके पार्ट 2 की धमाकेदार, हाई ऑक्टेन एक्शन और टाइगर-नवाज की जुगलबंदी के साथ दो ट्रेलर रिलीज हुए थे, उससे फैंस को काफी उम्मीदें थीं, लेकिन अफसोस के साथ कहना पड़ रहा है कि टाइगर श्रॉफ की हीरोपंती दर्शकों का दिल जीतने में नाकाम रही है।

Shahid Kapoor Jersey Full Movie Review in Hindi 2022

Heropanti 2 Movie Review: टाइगर श्रॉफ कि फिल्म हुई फ्लॉप?

हालाँकि, कहानी बहुत ही दिलचस्प तरीके से शुरू होती है, जहाँ जादूगर लैला (नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी) एक शातिर धोखेबाज हैकर है जो वित्तीय वर्ष के समापन पर भारत के सभी टैक्स मनी को हैक करने की कोशिश कर रहा है। दूसरी ओर, बबलू (टाइगर श्रॉफ) एक महत्वाकांक्षी हैकर है जो पैसा बनाकर पैसा कमाना चाहता है।

एक सरकारी मिशन पर लैला के कवर को उजागर करने के लिए बबलू को नियुक्त किया जाता है, लेकिन वहाँ बबलू को न केवल लैला की बहन इनाया (तारा सुतारिया) से प्यार हो जाता है, बल्कि हैकिंग के गलत कारोबार में लैला का साथी भी बन जाता है। बबलू की अंतरात्मा तब जागती है जब उसकी मुलाकात अमृता सिंह से होती है, जो इस धोखाधड़ी की शिकार है। जब लैला को इस बात का पता चलता है तो वह अमृता को मारने की कोशिश करता है, उसके बाद बबलू अपनी मां को बचाने और अपराधियों को जेल भेजने की कसम खाता है।

इस फिल्म में टाइगर के एक्शन और माचो इमेज के मुताबिक डायरेक्टर अहमद खान ने कमाल के एक्शन, रोमांस, गाने, मां के इमोशन, विलेन से पंगा, सोशल मैसेज, फॉरेन लोकेशन जैसे तमाम तत्वों को भर दिया, लेकिन हीरोपंती 2 स्वादिष्ट बिरयानी नहीं बन पाई . पाई और इसकी सबसे बड़ी वजह थी बिना सिर वाली कहानी और कमजोर पटकथा। टाइगर की वीरता दिखाने के लिए अहमद खान ने फिल्म में कई ओवर-द-टॉप सीन रखे हैं, लेकिन कुछ ऐसे हैं जो हास्यास्पद लगते हैं।

जैसे टाइगर श्रॉफ बम ब्लास्ट पीड़ित ट्रेन के चिथड़े से उठकर अपनी मां का फोन रिसीव करते हैं। हॉलीवुड स्टाइल एक्शन, डांस, रोमांस, टाइगर और नवाज की हंसी के साथ-साथ टाइगर के सीटी वाले डायलॉग जैसे ‘मेरी जाति नहीं और सबको आती नहीं’ फैन्स को आकर्षित कर सकते हैं, लेकिन फिर दिक्कत यह है कि हर दो-तीन सीन के बाद एक गाना आता है और लड़ाई शुरू।

एआर रहमान का संगीत गाँठ बाँधता नहीं है और ऐसा इसलिए है क्योंकि वह कहानी को आगे नहीं बढ़ाते हैं। व्हिसल बाजा जैसा गाना देखने के लिए भी अंत तक इंतजार करना पड़ता है। जी हां, फिल्म के अलावा गानों पर नजर डालें तो इसकी कोरियोग्राफी नजर आती है। फिल्म का क्लाइमेक्स दिलचस्प है।

Heropanti 2 Movie Review:

टाइगर श्रॉफ एक्शन के मामले में हर तरह से बीस साबित हुए हैं। उन्होंने अपने स्वैग और स्टाइल से धमाकेदार एक्शन को बखूबी निभाया है। वहीं इनाया के रोल में तारा सुतारिया निराश करती हैं। टाइगर-तारा की केमिस्ट्री पर्दे पर पंद्रहवां फैक्टर बनाने में नाकाम रहती है। जहां तक ​​नवाजुद्दीन सिद्दीकी की एक्टिंग की बात है तो वह फिल्म के प्लस पॉइंट हैं। लैला का उनका किरदार दर्शकों का खूब मनोरंजन करता है। अमृता सिंह जैसी काबिल अदाकारा मुंह में पानी लाने वाली मां बन गई हैं।

Leave a Comment