Aye Zindagi Review :- अंगदान पर आधारित ‘ऐ जिंदगी’ जानिए कितनी है असरदार!! 2022

Aye Zindagi Review in Hindi :- लंबे समय से गंभीर बीमारियों पर आधारित बॉलीवुड फिल्में बनी हैं, जिनमें ‘आनंद’ (कैंसर), ‘मार्गरीटा विद ए स्ट्रॉ’ (सेरेब्रल पाल्सी), ‘पा’ (प्रोजेरिया), ‘तारे जमीं पर’ (डिस्लेक्सिया) शामिल हैं। ‘बर्फी’ (ऑटिस्टिक), ‘ब्लैक’ (अल्जाइमर) जैसी कई फिल्में हैं।

इसी कड़ी में निर्देशक अनिर्बान बोस अंगदान पर आधारित ‘ऐ जिंदगी’ लेकर आए हैं। इस फिल्म की खूबी यह है कि यह एक सच्ची घटना पर आधारित है। दरअसल, निर्देशक लोगों को अंगदान के प्रति जागरूक करने के लिए अनिर्बान मोहन फाउंडेशन नामक संस्था के लिए चंदा लेने गए थे और वहीं से उन्हें कहानी का बीज मिला।

‘Aye Zindagi’ की कहानी: (Aye Zindagi Review)

कहानी 26 साल के सॉफ्टवेयर इंजीनियर विनय चावला (सत्यजीत दुबे) की है, जो लीवर की गंभीर बीमारी (लिवर सिरोसिस) से गुजर रहा है और अगर उसे लिवर ट्रांसप्लांट नहीं कराया गया तो वह और नहीं जी पाएगा। 6 महीने से। उसे हैदराबाद की अंगदान सलाहकार रेवती राजन (रेवती) से उम्मीद की किरण मिलती है।

रेवती लोगों को अंगदान करने के लिए प्रेरित करती है और मृतक के परिवारों को यह समझाने का काम करती है कि कैसे ब्रेन डेड के बाद मरीज को मृत माना जाता है और फिर उस मृतक का अंगदान कैसे 7 लोगों की जान बचा सकता है। इस प्रक्रिया में, विनय की दिन-प्रतिदिन बिगड़ती स्थिति के साथ-साथ अंग दान में वित्तीय कठिनाइयों को उनके सहयोगी और उनके डॉक्टर भाई कार्तिकेय (सावन टैंक) द्वारा देखा जाता है।

पहले तो उसे निकाल दिए जाने का खतरा होता है, लेकिन जब उसका डॉक्टर भाई कहता है कि वह दिन-रात विनय का ख्याल रखेगा और उसके साथी उसका समर्थन करने के लिए सहमत हो जाते हैं, तो विनय बीमारी से लड़ने का फैसला करता है। तैयार हो जाता है।

Trailer of ‘Ae Zindagi’ (Aye Zindagi Review)

Trailer of ‘Ae Zindagi’

Aye Zindagi Review in Hindi

फिल्म एक सच्ची घटना पर आधारित है, इसलिए निर्देशक के रूप में अनिर्बान ने कहानी के लेखन, निर्देशन और निष्पादन में पूरी संवेदनशीलता दिखाई है। उन्होंने कहानी को बेहद इमोशनल तरीके से पिरोया है। मध्यांतर तक आते-आते कहानी पूरी होती नजर आती है, लेकिन अंगदान के बाद रोगी की मानसिक स्थिति को भी सूक्ष्मता से चित्रित किया गया है।

हां, अच्छा होता अगर निर्देशक अंगदान के भावनात्मक पहलू के साथ-साथ उसके तकनीकी पहलू पर भी प्रकाश डालते। हालांकि फिल्म को बहुत ही आसानी से शूट किया गया है। फिल्म का बैकग्राउंड म्यूजिक कहानी के अनुरूप है।

‘ऐ जिंदगी’ में अभिनय करने वाले अभिनेता (Aye Zindagi Review)

अभिनय के मामले में फिल्म हर तरह से समृद्ध है। फिल्म के सभी कलाकारों ने शानदार अभिनय किया है। रेवती का किरदार जहां संवेदनशीलता की ऊंचाइयों को छूता है, वहीं कहानी का केंद्र बिंदु भी साबित होता है। उनका किरदार बहुत मुश्किल था, लेकिन उन्होंने हर परत को बखूबी निभाया। अब तक अपने प्यारे और चॉकलेटी किरदारों के लिए जाने जाने वाले सत्यजीत दुबे ने अपनी भूमिका में चार चांद लगा दिए हैं।

अपनी जानलेवा बीमारी और फिर अपराधबोध से जूझ रहे एक युवक की भूमिका में सत्यजीत दर्शकों को कहानी और चरित्र की गहराई में ले जाता है। मृण्मयी गोडबोले अपनी सामान्य उपस्थिति के बावजूद दमदार अभिनय का परिचय देकर मन मोह लेती हैं। सावन टैंक को भाई के रूप में याद किया जाता है। सपोर्टिंग कास्ट दमदार है।

Manshu Sinha

Manshu Sinha

Hello friends, Review Hindi is a News and Review site that Reviews all things like movies, tech products in Hindi. Manshu Sinha is the Founder of this Site, who is a professional Hindi blogger, content creator, digital marketer and graphic designer.

Articles: 298

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *